Friendship Day 2020 : फ्रेंडशिप डे पर दोस्ती के रिश्तों को पहले से और करें मजबूत

नेहा रेड्डी|
हर शख्स के जीवन में एक ही रिश्ता ऐसा होता है, जो वह अपनी मर्जी व अपने विवेक से चुनता है। और वो रिश्ता है दोस्ती का। एक सच्ची दोस्ती व एक सच्ची मित्रता बहुत मुश्किल से मिलती है। दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है, जो हमें जन्म से नहीं मिलता तथा इसे हम खुद बनाते हैं। जीवन की हर परिस्थिति में जो आपको समझे, आपके साथ खड़ा रहे, जिससे बिना हिचके मन की सारी बातें की जाए, वो भी पूरे विश्वास के साथ तो वो है आपका सच्चा मित्र। दोस्ती पर कई गीत भी बने हैं, उन्हीं में एक 'यारा तेरी यारी को मैंने तो खुदा माना...' तो समझ लीजिए दोस्ती कितना महत्व रखती है।
दोस्तियां बहुत नसीब से बनती हैं और इन्हें सहेजकर रखना हमारा काम होता है। किसी को सच्ची मित्रता बचपन में ही मिल जाती है, जो बुढ़ापे तक सुंदर-सी माला में गुंथी रहती है। तो किसी को कॉलेज या दफ्तर में यह रिश्ता नसीब होता है। हर एक शख्स के जीवन में दोस्ती बहुत खास होती है। तो क्यों न इस फ्रेंडशिप डे पर इस खास रिश्ते को और मजबूत और गहरा बनाया जाए? जानते हैं कि वक्त बहुत मुश्किल है लेकिन हालात चाहे जैसे भी हों, आपकी दोस्ती की जड़ों को संवाद और परवाह के साथ तो आप सहेजकर रख ही सकते हैं।
तो आइए निगाह डालते हैं आपकी दोस्ती पर और इस फ्रेंडशिप डे पर करते हैं इसे थोड़ा और मजबूत-

संवाद न रुकें

माना वक्त मुश्किल है लेकिन संवाद और परवाह पर किसकी रोक है? आप अपने मित्र से बातें करना न छोड़ें, पूरी यादें उनके साथ साझा करें, परिवार के सदस्यों के बारे में पूछें। आप चाहें तो वीडियो कॉल करके भी परिवार के अन्य सदस्यों के साथ जुड़ सकते हैं और उनसे हालचाल पूछ सकते हैं।
अपने मित्र को बताएं कि वे कितने खास हैं आपके लिए

वैसे दोस्ती में कुछ जताने की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन दोस्ती के खास दिन पर आप यह जरूर कर सकते हैं। और यकीन मानिए आपके मित्र को भी यह बात बहुत पसंद आएगी। उन्हें यह जरूर बताएं कि वे आपके लिए कितनी अहमियत रखते हैं?

तंज न कसें

दोस्तों के बीच हंसी-मजाक तो आम बात है। इसके बिना दोस्ती अधूरी-सी लगती है लेकिन यह वक्त तंज या टांग खिंचाई का नहीं है। यह समय है एक-दूसरे की परवाह करने का। इसलिए यदि आपका मित्र किसी बात को लेकर जैसे सेहत को लेकर चिंतित है तो इस बात का मजाक बनाने की जगह आप उन्हें हिम्मत दें।
पुराने गिले-शिकवे भूलें

इस बात का हमेशा ख्याल रखें कि इस दुनिया में कोई परफेक्ट नहीं है। यदि आपके मित्र से कोई गलती हुई है और आप उसे मन से लगाए बैठ गए हैं, तो यह आपकी गलती है। हर एक व्यक्ति में कुछ अच्छाई, तो कुछ कमियां जरूर होती हैं इसलिए आप पुरानी बातों को भूल अपनी मित्रता पर ध्यान दें।

अटूट विश्वास है जरूरी

दोस्ती का पहला नियम तो विश्वास ही है। दोस्तों में हर तरह की बातें शेयर होती हैं और वो भी इस विश्वास के साथ कि ये बातें कहीं और नहीं जाएंगी। इसलिए इस बात का ख्याल रखें कि गलती से भी आप इस विश्वास को न तोड़ पाएं।



और भी पढ़ें :