महाराष्ट्र में मंत्रियों की संभावित लिस्ट, जानिए किसे मिल सकती है कैबिनेट में जगह?

Last Updated: सोमवार, 8 अगस्त 2022 (22:36 IST)
हमें फॉलो करें
मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे अपने 40 दिन पुराने का को करेंगे। मुख्यमंत्री ने सोमवार को यह जानकारी दी। शिवसेना विधायक शिंदे और भाजपा नेता ने 30 जून को क्रमश: राज्य के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली थी।

शिंदे ने मराठवाड़ा क्षेत्र में नांदेड़ में पत्रकारों से कहा कि मंत्रिमंडल का विस्तार कल मंगलवार को होने की उम्मीद है। शिंदे के एक करीबी सहयोगी ने बताया कि दक्षिण मुंबई में राजभवन में पूर्वाह्न 11 बजे निर्धारित समारोह में एक दर्जन मंत्री शपथ लेंगे। उन्होंने कहा कि अगले दौर का विस्तार बाद में होगा।

मुख्यमंत्री के सहयोगी ने कहा कि राज्य विधानमंडल का मानसून सत्र जल्द होना है, इसलिए हमने मंत्रिमंडल विस्तार में 12 विधायकों को शामिल करने का फैसला किया। मंगलवार को शपथ लेने वालों में कुछ विधान परिषद सदस्य भी होंगे।
सूत्रों ने कहा कि शिवसेना में बगावती तेवर अपनाकर अधिकांश विधायकों को अपने खेमे में लाने वाले शिंदे के लिए मंत्रिमंडल में अपने खेमे के अधिकतर विधायकों को शामिल करना मुश्किल काम होगा। पिछले 1 महीने में शिंदे 7 बार दिल्ली का दौरा कर चुके हैं और हर बार दौरे के बाद मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें लगाई जाती रही हैं।

शिंदे गुट से भरत गोगावाले और शंभूराज देसाई के नाम चर्चा में हैं। पार्टी सूत्रों ने बताया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल, सुधीर मुनगंटीवार, गिरीश महाजन, राधाकृष्ण विखे पाटिल, सुरेश खाड़े और अतुल सावे को शामिल किए जाने की संभावना है।
शिंदे ने हालांकि कहा कि मंगलवार को मंत्री पद की शपथ लेने वालों के नामों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। शिंदे ने कहा कि इन नामों को आज रात या कल (सुबह) अंतिम रूप दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने पिछले 1महीने में नई दिल्ली का 7 बार दौरा किया और हर दौरे के साथ यही चर्चा हुई कि मंत्रिमंडल विस्तार होने वाला है।

महाराष्ट्र विधानसभा में नेता विपक्ष अजित पवार ने कहा कि शिंदे ने अपने साथ आने वाले हर विधायक से मंत्री पद का वादा किया था। पवार ने कहा कि अब शिंदे अपना वादा पूरा करने में सक्षम नहीं हैं इसलिए मंत्रिमंडल विस्तार में देरी हो रही है। मुख्यमंत्री को यह भी बताना चाहिए कि देरी किस वजह से हुई।
पवार ने यह भी कहा कि अब तक उनके पास मंगलवार को होने वाले मंत्रिमंडल विस्तार के लिए कोई निमंत्रण नहीं आया है। उन्होंने कहा कि यह साफ है कि शिंदे समूह में गए शिवसेना के सभी 40 बागी विधायकों को मंत्री पद नहीं मिलेगा। एक राजनीतिक पर्यवेक्षक ने कहा कि महाराष्ट्र में तेलंगाना की तुलना में कम देरी हुई है, जहां 2019 में मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने पूर्ण मंत्रिपरिषद का गठन करने के लिए दो महीने से अधिक समय तक इंतजार किया था।
भाजपा के ये विधायक ले सकते हैं शपथ : पश्चिम महाराष्ट्र से चन्द्रकान्त पाटिल (मराठा), उत्तर महाराष्ट्र से गिरीश महाजन (गुर्जर, ओबीसी), पश्चिम महाराष्ट्र से राधाकृष्ण विखे पाटिल (मराठा), विदर्भ से सुधीर मुनगंटीवार (वैश्य), उत्तर महाराष्ट्र, नंदुरबार से विजयकुमार गावित (आदिवासी), पश्चिम महाराष्ट्र से सुरेश खाड़े (शेड्यूल कास्ट), औरंगाबाद मराठवाड़ा से अतुल सावे (ओबीसी), ठाणे डोम्बिवली कोंकण से रवीन्द्र चव्हाण (मराठा), मुंबई, कोंकण से मंगल प्रभात लोढ़ा (मारवाड़ी)।
शिंदे गुट से इन्हें मिल सकता है मंत्री पद : कोंकण से उदय सामंत (मराठा), मराठवाड़ा से संदीपान भूमरे (मराठा), उत्तर महाराष्ट्र से गुलाबराव पाटिल (ओबीसी), उत्तर महाराष्ट्र से दादा भूसे (मराठा), कोंकण से दीपक केसरकर (मराठा), पश्चिम महाराष्ट्र से शंभूराजे देसाई (मराठा), विदर्भ से 'प्रहार जनशक्ति' के बच्चू कडू (ओबीसी)। डिप्टी सीएम देवेन्द्र फड़नवीस को मिल सकता है गृह विभाग।(भाषा)



और भी पढ़ें :