हिन्दू राष्ट्र की मांग करने वाले जगद्गुरू परमहंस का संत समिति ने किया बहिष्कार

संदीप श्रीवास्तव| Last Updated: बुधवार, 6 अक्टूबर 2021 (23:50 IST)
अयोध्या। कुछ समय में अपने विवादित बयानों से जबरदस्त चर्चा में आए स्वयंभू जगत गुरु आचार्य को अंततः उनके बड़बोलेपन के चलते अयोध्या की संत समिति ने बाहर कर दिया है। संत समाज का मानना है कि महामंडलेश्वर जगतगुरु महंत और श्री महंत की होती है, जिसकी अपनी अलग-अलग परंपरा होती है पद की प्राप्ति के लिए, और संत समिति लेती है निर्णय, किंतु जगत गुरु परमहंस आचार्य स्वयंभू हैं।
अयोध्या की संत समिति ने किया जगत गुरु परमहंस आचार्य का बहिष्कार किया है। कल ही परमहंस दास ने तपस्वी छावनी के समस्त पदों से इस्तीफा दिया था। सूत्रों के मुताबिक संत समिति के पक्ष में जगत गुरु परमहंस आचार्य के पीठ के महंत सर्वेश्वर दास ने पहले ही परमहंस दास का बहिष्कार कर दिया है। अब जगतगुरु परमहंस आचार्य की और मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

जगत गुरु परमहंस आचार्य गत दिनों आमरण अनशन पर बैठ चुके हैं। अपनी स्वयं की चिता सजाकर कफन पूजन भी कर चुके हैं। गत दिनों अपनी मागों को लेकर सरयू में समाधि लेने की चेतावनी भी सरकार व प्रशासन को दी थी। इसके बाद अब उन्होंने 2023 नवंबर में भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित किए जाने के लिए दिल्ली के रामलीला मैदान में आमरण अनशन का ऐलान किया है।

क्या बोले परमहंस : निष्कासन पर परमहंस ने बयान जारी कर कहा कि 2018 में 1 से 12 अक्टूबर तक अन्न-जल का त्याग करके राम मंदिर के लिए आमरण अनशन किया था। जब उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अनशन तोड़वाया था।

इसके बाद 19 दिनों तक हमने तीर्थराज प्रयाग कुंभ किया था। जब शंकराचार्य श्री वासुदेवनंद सरस्वती ने तोड़वाया था। इसके बाद जनसंख्या नियंत्रण को लेकर के हमने आवाज़ उठाई थी। एक देश एक कानून को लेकर हमने आवाज उठाई। सभी तीर्थों के चौरासी कोस की संस्कृति तीर्थक्षेत्र में अंडा, मांस, मछली और मदिरा को बंद करने को लेकर महामहिम राष्ट्रपति से लेकर एक लंबा संघर्ष किया।

इसमें अयोध्या में बंद हुआ मथुरा, वृंदावन में बंद हुआ। 100 करोड़ हिन्दुओं की रक्षा के लिए भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित कराने के लिए हमारी मांग चल रही है। देश के सभी हिन्दूवादी संगठन लगभग 50 करोड़ से ज्यादा हिन्दू भाई हमारे समर्थन में आ गए हैं, लेकिन कुछ लोगों को बुरा लग रहा है।
जो किसी राजनीतिक पार्टियों से पैसा मिल रहा है वह हमारा ही विरोध करने के लिए मुसलमानों और इसाइयों के इशारे पर, राजनीतिक पार्टी के इशारे पर वो हमारा विरोध कर रहे हैं, जिससे हिन्दू राष्ट्र के जो हमारी मुहिम है वह कमजोर पड़े।

लेकिन ऐसा होगा नहीं, यह भी एक इतिहास रहा है कि देश में देश के दुश्मनों के साथ-साथ कुछ अपने देश के साथ गद्दारी करने वाले गद्दारों का भी हो रहा, जिससे महाराणा प्रताप जैसे देशभक्तों को भी घास की रोटी खानी पड़ी। मैं हर कुर्बानी दूंगा और भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित करवाकर रहूंगा। सभी देशवासी हमारे साथ हैं। जो लोग हमारे विरोध में अनाप-शनाप बोल रहे हैं, उसका जवाब मैं नहीं देश की जनता देगी।



और भी पढ़ें :