अमरनाथ यात्रा की सकुशलता की खातिर की जा रही मॉक ड्रिल

Author सुरेश डुग्गर| पुनः संशोधित शुक्रवार, 28 जून 2019 (19:58 IST)
जम्मू। अमरनाथ यात्रा की सकुशलता की खातिर की जा रही दहशत पैदा कर रही है। ऐसा दहशत का माहौल अबकी बार कश्मीर में ही नहीं बल्कि जम्मू के कई इलाकों में भी है, जहां इसलिए सुरक्षा की मॉक ड्रिल कर रहे हैं ताकि कहीं कोई चूक न रह जाए।
इसी कड़ी में सुरक्षाबलों की गाड़ियां चिनौर थानांतर्गत लक्ष्मीपुरम मुहल्ले में प्रवेश करती हैं। आधुनिक हथियारों से लैस जवानों ने पूरे मुहल्ले को सीज कर दिया। यही नहीं, मुख्य मार्ग पर वाहनों की आवाजाही को बंद कर दिया गया और क्षेत्र में स्थित ट्यूशन सेंटर को भी बंद करने के निर्देश दे दिए गए। उसके बाद सुरक्षाबलों ने शुरू कर दिया।
मुहल्ले में इतनी भारी संख्या में सुरक्षाबल देख स्थानीय लोगों में दहशत फैल गई। क्षेत्र में अफवाह फैल गई कि यहां आतंकियों की घुसपैठ हो गई है और सुरक्षाबलों ने उनकी तलाशी के लिए ही यह सर्च ऑपरेशन चलाया है।
करीब 2 घंटे तक चले इस तलाशी अभियान के दौरान स्थानीय लोगों ने अपने बच्चों को भी घरों में बंद कर दिया। सुरक्षाबलों की इस कार्रवाई को देख मुहल्ले के लोग खौफजदा थे। डॉग स्क्वॉड, की मदद से सुरक्षाबल तलाशी ले रहे थे।
क्षेत्र में बढ़ते खौफ को भांपते हुए सुरक्षाबलों ने स्थिति को शांत करते हुए लोगों को बताया कि अमरनाथ यात्रा शुरू होने जा रही है। यात्रा आरंभ होने से पहले सुरक्षाबल सुरक्षा व्यवस्था को यकीनी बनाने के लिए यह मॉक ड्रिल चला रही है और घबराने की कोई बात नहीं है।

उन्होंने लोगों से कहा कि वे भी क्षेत्र में हरेक पर नजर रखें। संदिग्ध दिखने पर तुरंत स्थानीय पुलिस स्टेशन व सुरक्षाबलों से संपर्क करें। सर्च ऑपरेशन में एसएसबी, केरिपुब के साथ राज्य पुलिस के जवान व खुफिया विंग के अधिकारी भी मौजूद रहे। करीब 2 घंटे तक चले तलाशी अभियान के बाद सुरक्षाबल अपने शिविर में वापस लौट गए।
पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि वे अमरनाथ यात्रा से पूर्व आपात स्थिति से निपटने के लिए खुद को तैयार कर रहे हैं जिसके चलते यह सर्च ऑपरेशन चलाया गया है। इस तरह के अभियानों से सुरक्षाबल अपनी भावी रणनीति तैयार करते हैं।



और भी पढ़ें :