शुक्रवार, 24 मार्च 2023
  1. धर्म-संसार
  2. व्रत-त्योहार
  3. चैत्र नवरात्रि
  4. Chaitra navratri 2023 Shubh sanyog
Written By

चैत्र नवरात्रि 2023 पर बन रहे हैं ये महासंयोग, जानिए खास बात

Chaitra navratri 2023 kab se prarambh ho rahi hai: फाल्गुन मास समाप्त होने के बाद चैत्र माह प्रारंभ होता है। चैत्र माह के पहले दिन नववर्ष का पहला दिन होता है। चैत्र माह के पहले दिन से ही चैत्र नवरात्रि प्रारंभ होती है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार नववर्ष का प्रारंभ 22 मार्च बुधवार 2023 को हो रहा है इसी के साथ चैत्र नवरात्र प्रारंभ होगी जो 31 मार्च तक चलेगी। इस बार यह पर्व 3 शुभ योग में मनाया जाएगा।
 
3 शुभ संयोग : इस बार नवरात्रि की शुरुआत शुक्ल योग में हो रही है। इसके बाद ब्रह्म योग शुरू हो जाएगा। ब्रह्म योग के बाद इंद्र योग भी लगेगा। इन योगों में देवी की पूजा अर्चना करना बेहद शुभकारी मानी जाती है।
 
शुक्ल योग : प्रात: 9 बजकर 18 मिनट तक।
ब्रह्म योग : 9 बजकर 19 मिनट से अगले दिन सुबह 6 बजे तक रहेगा।
इंद्र योग : ब्रह्म योग के बाद इंद्र योग प्रारंभ होगा।
 
चैत्र नवरात्रि कलश और घट स्थापना मुहूर्त : navratri ghat sthapna muhurat 2023 : 22 मार्च 2023 को सुबह 06 बजकर 29 से सुबह 07 बजकर 39 तक घर स्थापना कर सकते हैं।
 
ब्रह्म मुहूर्त : प्रात: 05:06 से 05:54 तक।
अमृत काल : सुबह 11:07 से 12:35 तक।
विजय मुहूर्त : दोपहर 02:47 से 03:35 तक।
सायाह्न सन्ध्या : शाम 06:50 से 08:01 तक।
ये भी पढ़ें
Chaitra Navratri 2023 : चैत्र नवरात्र में अखंड ज्योत जलाने से क्या होगा?