बजट से ठीक पहले 2 दिन की हड़ताल पर गए बैंक कर्मचारी, प्रदर्शन कर सरकार पर बनाया दबाव

Author विकास सिंह| Last Updated: शुक्रवार, 31 जनवरी 2020 (12:48 IST)
भोपाल। देश का पेश होने से ठीक पहले देश भर के बैंक कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ हल्लाबोल दिया है। देश भर के दस लाख बैंक कर्मचारी और अधिकारी आज अपनी मांगों को लेकर आज से दो दिन की पर है। बैंक कर्मचारी 26 महीने से लंबित वेतन पुनरीक्षण एवं संबंधित मुद्दों को हल करने के लिए आज से दो दिन की हड़ताल पर है।
भोपाल में का काफी व्यापक असर देखने को मिल रहा है और सभी सरकारी और निजी बैंक पूरी तरह से बंद है। इस दौरान बैंक कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर शहर में रैली निकालकर अपना विरोध प्रदर्शन जताया। इस दौरान बैंक कर्मचारियों ने मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए कहा बैंक कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर आंदोलन जारी रखेंगे। अभी तीन दिन की हड़ताल कर रहे है इसके बाद मार्च में होली के तुरंत बाद लगातार 6 दिन हड़ताल पर रहेंगे। भोपाल में बैंक कर्मचारियों की हड़ताल को 9 अन्य संगठनों ने अपना समर्थन दिया।

हड़ताली बैंक कर्मचारियों की बैंक कर्मचारियों के संगठन के नेताओं के मुताबिक यह पहली बार होगा कि जब वित्त मंत्री संसद में अपना बजट भाषण पेश कर रही होगी तब पूरे देश के बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। हड़ताल पर गए बैंक कर्मचारियों के संगठन के नेताओं के मुताबिक इससे ज्यादा काला दिन देश के इतिहास में नहीं होगा।

बैंक कर्मचारियों की मांग हैं कि मूल वेतन के साथ विशेष भत्तों का विलय किया जाए, नई पेंशन योजना को समाप्त करो, बैंक कर्मचारियों और अधिकारियों के लिए काम का समय निश्चित किया जाए और बैंकों में फाइव डे वीक को अपनाया जाए। बैंक कर्मचारियों ने साफ किया है कि अगर उनकी मांग नहीं मानी जाती है तो आने वाले समय आंदोलन और तेज किया जाएगा और बैंक कर्मचारी अनिश्चितकाल हड़ताल पर चले जाएंगे।


और भी पढ़ें :