एक थी आनंदी .............. !!!

चमक-दमक चकाचौंध और उजालों से भरी इस दुनिया में दिल इतने छल-कपट और बेवफाइयों से भरे हैं कि आप कभी भी किसी पर विश्वास नहीं कर सकते लेकिन छोटे शहरों से इस 'दुनिया' में आए लोग इन मूल्यों पर अब भी कायम है कि रिश्तों में इमानदारी और पारदर्शिता जरूरी है। शायद यही सोच और भावनात्मक निर्भरता प्रत्युषा के लिए जानलेवा सिद्ध हुई। सवाल यह है कि इतनी बड़ी फिल्म इंडस्ट्री में तमाम अधिकारों के लिए संगठन है पर मनोवैज्ञानिक समस्याओं के लिए कोई समूह नहीं, कोई संगठन नहीं....

> तभी मीना कुमारी से लेकर परवीन बॉबी तक और दिव्या भारती से लेकर जिया खान तक खामोश रहती है मौत, चीखती है जिंदगियां....अकेलापन अगर खतरनाक है तो उससे भी ज्यादा खतरनाक है किसी बेवफा का साथ....पर मौत के बाद के सारे विश्लेषण बेमानी हैं, सारी अटकलें बेकार हैं। एक जिंदगी हंसती हुई दिखाई देती थी लेकिन उसके आंसुओं का हिसाब किसी के पास नहीं.....बहुत कुछ कर सकती थी प्रत्युषा अगर तुमने अपने किरदार 'आनंदी' को ही सही मायनों में जी लिया होता.... आनंदी को उसके पति ने कई बार धोखा दिया पर वह अपने व्यक्तित्व के दम पर कायम रही सच के लिए संघर्ष करती रही पर तुम हार गई क्योंकि तुम सिर्फ प्रत्यूषा रही.... अभिनय करती रही..... खैर...अब कुछ नहीं बचा।  
 
तुम्हारे अभिनय से प्रभावित थी इसलिए प्रशंसक के नाते दुखी होना लाजमी है। 
 
क्या तुम्हारी इस असमय मौत से सुधरेंगी-संभलेगीं अभिनय की दुनिया की वे लड़कियां जो अपने-अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ अपनी हर चीज शेयर कर रही हैं....सवाल यह है कि भावनात्मक मजबूती देना या होना किसकी जिम्मेदारी है माता-पिता की, दोस्तों की या स्वयं की...प्रत्यूषा तुम याद रहोगी पर मन कड़वा हो जाएगा कि तुम क्यों चली गई....    



और भी पढ़ें :