बॉल टैंपरिंग विवाद की फिर जांच कर सकता है क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया, बेनक्राफ्ट हुए बोर्ड के सामने पेश

Last Updated: सोमवार, 17 मई 2021 (21:39 IST)
मेलबर्न: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2018 में खेली गई सीरीज के दौरान ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की ओर से कथित (गेंद के साथ छेड़छाड़) का मामला फिर से विवादों के घेरे में है। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने ऑस्ट्रेलिया के विकेटकीपर बल्लेबाज से संपर्क कर उनसे इस मामले में और अधिक जानकारी के बारे में पूछा है।
दरअसल बेनक्राॅफ्ट के इस घटना के बारे में और अधिक गेंदबाजों को जानकारी होने के बयान के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया है। बैनक्रॉफ्ट ऑस्ट्रेलिया के तत्कालीन कप्तान और के अलावा तीसरे ऐसे खिलाड़ी थे, जिन्हें गेंद से छेड़छाड़ के मामले में शामिल होने पर प्रतिबंध का सामना करना पड़ा था। स्मिथ को इस घटना के बाद कप्तान के पद से हटा दिया गया था। जहां स्मिथ और वॉर्नर पर एक-एक साल का प्रतिबंध लगा था तो वहीं बेनक्राॅफ्ट को नौ महीने के लिए निलंबित किया गया था।
क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय टीमों के प्रमुख बेन ओलिवियर ने सोमवार को कहा कि रेबेका मरे की अगुआई वाली इंटिग्रिटी यूनिट ने बेनक्राॅफ्ट से संपर्क किया है। यह जानने के लिए कि क्या वह अपने पूर्व के बयान में कुछ और जोड़ना चाहते हैं या नहीं। उन्होंने एक बयान में कहा, “ बेशक उस घटना की विस्तृत जांच हुई थी। इसके बाद कार्रवाई की गई थी, लेकिन हमने हमेशा यही रुख अपनाया कि अगर किसी के पास उस घटना के संदर्भ में कोई नई सूचना है तो हम उसे आगे आने और इंटिग्रिटी यूनिट के साथ इस पर बात करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। ”
उन्होंने कहा, “ हमारी इंटिग्रिटी यूनिट ने बेनक्रॉफ्ट से दोबारा बात करते हुए उन्हें आमंत्रित किया है कि अगर उनके पास कोई नई सूचना है तो वह हमारे साथ जरूर साझा करें। हम इस पर उनके जवाब का इंतजार करेंगे। हमें अभी तक उनकी ओर से कोई जवाब नहीं मिला है। ”

गेंद से छेड़छाड़ के मामले में बेनक्राफ्ट के खुलासे में कुछ भी चौंकाने वाला नहीं : क्लार्क
पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क ने कहा कि उन्हें यह जानकर हैरानी नहीं होगी कि 2018 में गेंद से छेड़छाड़ की साजिश के बारे में गेंदबाजों को पता था।इस विवाद के कारण ऑस्ट्रेलियाकी हर हाल में जीत दर्ज करने की संस्कृति की समीक्षा की गयी थी। इसके बाद तत्कालीन कप्तान स्टीव स्मिथ और उप कप्तान डेविड वार्नर पर एक साल का जबकि कैमरन बेनक्राफ्ट
पर नौ महीने का प्रतिबंध लगा था। बेनक्राफ्ट ने गेंद की शक्ल बिगाड़ने में अहम भूमिका निभायी थी।

यह मसला पिछले सप्ताह फिर से चर्चा में आया जब बैनक्राफ्ट ने खुलासा किया कि ऑस्ट्रेलिया के तब के गेंदबाजों को इस साजिश की जानकारी थी।क्लार्क ने सोमवार को स्काई स्पोर्ट्स रेडियो से कहा, ‘‘यदि आप उच्चस्तर पर क्रिकेट खेल रहे हो तो आप अपनी रणनीति के बारे में जानते हो। क्या आप ऐसी कल्पना कर सकते हो कि गेंद वापस गेंदबाज को सौंपी जा रही हो और गेंदबाज को इस बारे में पता नहीं हो। कैमरन बेनक्राफ्टका खुलासा चौंकाने वाला नहीं है।’’

बेनक्राफ्ट के साक्षात्कार के बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने भी बयान जारी करके कहा कि वह घटना की फिर से जांच करने के लिये तैयार है।क्लार्क ने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि किसी को इस पर हैरानी होगी कि इसके बारे में तीन लोगों से अधिक को जानकारी थी। ’’



और भी पढ़ें :