सचिन ने आज के ही दिन पूरा किया था शतकों का महाशतक

Last Updated: सोमवार, 16 मार्च 2020 (18:34 IST)
नई दिल्ली। रिकॉर्डों के बेताज बादशाह ने के दिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शतकों का महाशतक पूरा किया था और यह उपलब्धि हासिल करने वाले वह दुनिया के एकमात्र बल्लेबाज हैं।

46 वर्ष के सचिन ने 24 साल के अपने शानदार करियर में 200 टेस्ट मैच में 51 शतकों की मदद से कुल 15921 रन बनाए जबकि 463 वनडे में उन्होंने 49 शतकों की मदद से 18426 रन बनाए। सचिन के सर्वाधिक टेस्ट और वनडे रनों तथा शतकों का आज भी कायम है।

सचिन ने 16 मार्च 2012 को के खिलाफ ढाका में खेले गए एशिया कप के एकदिवसीय मुकाबले में 147 गेंदों पर 12 चौकों और एक छक्के की मदद से 114 रन की शानदार पारी खेली थी। यह उनके करियर का था। हालांकि सचिन की इस पारी के बावजूद भारत यह मैच नहीं जीत पाया था। भारत ने 5 विकेट 289 रन बनाए थे जबकि बांग्लादेश ने 5 विकेट पर 293 रन बनाकर मैच जीत लिया था।

मास्टर ब्लास्टर के वनडे करियर का यह 462वां मैच था। उनका आखिरी मैच इसी टूर्नामेंट में के खिलाफ था जिसमें उन्होंने 52 रन बनाए थे। सचिन ने अपना आखिरी टेस्ट नंवबर 2013 में वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने घरेलू मैदान मुंबई में खेला था।

क्रिकेट में रिकॉर्डों को बादशाह सचिन ने अपने करियर में 664 मैचों में कुल 34357 रन बनाए जो एक विश्व रिकॉर्ड है। इसमें 100 शतक और 164 अर्द्धशतक शामिल हैं। सचिन के रिकॉर्डों को मौजूदा समय में सिर्फ भारतीय कप्तान विराट कोहली से ही कोई खतरा हो सकता है। विराट ने कुल 416 मैचों में 21901 रन बनाए हैं जिसमें 70 शतक और 104 अर्द्धशतक शामिल हैं। विराट ने वनडे में 43 और टेस्ट में 27 शतक बनाए हैं।
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने सचिन की इस ऐतिहासिक उपलब्धि को लेकर सोमवार को ट्वीट करते हुए कहा, 'सचिन ने आज के दिन बांग्लादेश के खिलाफ इतिहास बनाया और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शतकों का महाशतक पूरा करने वाले वह पहले बल्लेबाज बने। उनके बाद ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग (71 शतक), विराट कोहली (70) और श्रीलंका के कुमार संगकारा (63) हैं।'

सचिन ने अपना टेस्ट पदार्पण नवंबर 1989 में पाकिस्तान के खिलाफ कराची में और वनडे पदार्पण दिसंबर 1989 में पाकिस्तान के खिलाफ गुजरावाला में किया था। सचिन इसके बाद लगातार 24 साल तक भारत के लिए क्रिकेट खेलते रहे। हाल में वह मुंबई में 5 देशों की लीजेंड सीरीज में भारत लीजेंड्स की तरफ से खेल रहे थे। यह सीरीज के कारण बीच में ही कर दी गई।

क्रिकेट का हर रिकॉर्ड अपने नाम रखने वाले सचिन को 1994 में अर्जुन पुरस्कार, 1997-98 में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार, 1999 में पद्मश्री, 2008 में पद्मविभूषण और 2014 में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। वह 1997 में विजडन क्रिकेटर ऑफ द ईयर रहे थे। उन्हें 2010 में आईसीसी ने वर्ष के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर के लिए सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी प्रदान की थी। उन्हें 2020 में सर्वश्रेष्ठ खेल क्षण के लिए लॉरियस वर्ल्ड स्पोर्ट्स अवॉर्ड प्रदान किया गया था।


और भी पढ़ें :