महिला वनडे टीम की कप्तान मिताली राज के बड़े फैसले से चयनकर्ता क्यों हैं परेशान?

वेबदुनिया न्यूज डेस्क| Last Updated: मंगलवार, 27 अगस्त 2019 (17:10 IST)
मुंबई। भारतीय महिला क्रिकेट को ऊंचाईयों पर ले जाने वाली 36 बरस की वनडे टीम की कप्तान हैं लेकिन अचानक उन्होंने एक बड़ा फैसला ले लिया। मिताली ने मीडिया को बताया कि वे टी-20 सीरीज के लिए उपलब्ध हैं, जो दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली जानी है। मिताली के फैसले से भारतीय टीम के चयनकर्ता परेशान हो गए हैं।

भारतीय महिला क्रिकेट टीम के चयनकर्ताओं का परेशान होना इसलिए लाजमी है क्योंकि 2021 में 30 जनवरी से 20 फरवरी तक न्यूजीलैंड में आईसीसी वर्ल्ड कप है, जिसके लिए वे मिताली की अगुवाई में ऐसी टीम तैयार करना चाहते हैं, जो चैम्पियन बने।
ALSO READ:
मिताली राज और हरमनप्रीत के बीच खिताब की जंग

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच टी-20 सीरीज होनी हैं। मिताली चाहती हैं कि वे इस सीरीज में खेलें जबकि अगले साल 2020 में ऑस्ट्रेलिया में टी-20 का विश्व कप आयोजित होना है। इसके मुकाबले 21 फरवरी से 8 मार्च तक होंगे।

भारतीय चयनकर्ता अभी से टी-20 वर्ल्ड कप के लिए टीम संयोजन की तैयारियों में जुटे हुए हैं। ऐसे में मिताली का ऐन वक्त पर अपनी उपलब्धता बताने से वे पसोपेश में पड़ गए हैं। चयनकर्ताओं की मुंबई में 5 सितंबर को बैठक होगी, जिसमें पहले 3 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए टीम का चयन किया जाएगा।
भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच 5 टी-20 मैचों की सीरीज की शुरुआत गुजरात के सूरत स्थित लालाभाई कांट्रेक्टर स्टेडियम में 24 सितम्बर से होगी और 4 अक्टूबर 2019 को खत्म होगी। मिताली चाहती हैं कि वह इस सीरीज में मैदान पर उतरे और अपने अनुभव का लाभ भारतीय महिला टीम को दें।

भारतीय महिला टी-20 की कप्तान और मिताली राज के बीच बनती नहीं है। हरमनप्रीत के कारण ही मिताली ने टी-20 से खुद को अलग किया था और वे वनडे की कप्तान बन गईं थी। मिताली ने साफ कहा कि मैं 2021 में होने वाले विश्व कप में खेलने के लिए प्रतिबद्ध हूं लेकिन उससे पहले टी-20 में खेलना चाहती हूं।
ALSO READ:
भारतीय वनडे सीरीज जीतने के बाद भी क्यों हैं दु:खी?

टी-20 में खेलने का कारण मिताली ने यह बताया कि मैं सीरीज दर सीरीज आगे बढ़ना चाहती हूं। फिलहाल मेरा ध्यान पर नहीं लगा है। हालांकि उम्र को देखते हुए चयनकर्ता शायद ही उनकी दिलचस्पी को तवज्जों दें क्योंकि वर्ल्ड कप 6 महीने बाद होना है। भारतीय महिला टीम के पास अन्य युवा विकल्प भी हैं, जिन्हें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज में मौका मिल सकता है।

 

और भी पढ़ें :