कुलदीप की हैट्रिक, भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 50 रन से हराया

कोलकाता| पुनः संशोधित गुरुवार, 21 सितम्बर 2017 (22:06 IST)
हमें फॉलो करें
कोलकाता। चाइनामैन स्पिनर की हैटट्रिक और कप्तान विराट कोहली की सुगढ़ पारी से भारत ने ऐतिहासिक ईडन गार्डन्स पर गुरुवार को यहां ऑस्ट्रेलिया को दूसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में 50 रन से हराकर पांच मैचों की श्रृंखला में 2-0 से बढ़त बनाई।

कोहली केवल आठ रन से शतक से चूक गए। उन्होंने 107 गेंदों पर 92 रन बनाए जिसमें आठ चौके शामिल हैं। भारतीय कप्तान ने सलामी बल्लेबाज अंजिक्य रहाणे (55) के साथ दूसरे विकेट के लिए 102 रन की साझेदारी की। ऑस्ट्रेलिया ने अच्छी वापसी की और भारत की पूरी टीम को 50 ओवर में 252 रन पर आउट कर दिया। भारत ने अंतिम दस ओवरों में केवल 45 रन बनाए। ऑस्ट्रेलिया के लिए नाथन कूल्टर नाइल ने 51 रन देकर तीन विकेट और केन रिचर्डसन ने 55 रन देकर तीन विकेट लिए। विराट कोहली मैन ऑफ द मैच रहे।

भारत का लक्ष्य 280 रन के आसपास पहुंचना था, लेकिन ईडन की पिच पर बल्लेबाजी करना आसान नहीं थी। ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज फिर से कलाई के दोनों स्पिनरों कुलदीप (54 रन देकर तीन) और युजवेंद्र चहल (34 रन देकर दो) के सामने संघर्ष करते हुए नजर आए। कप्तान स्टीव स्मिथ (59) और इॉलराउंडर मार्कस स्टोइनिस (नाबाद 62) ने अपनी तरफ से कुछ प्रयास किए लेकिन वे नाकाफी थे। ऑस्ट्रेलियाई टीम 43.1 ओवर में 202 रन पर आउट हो गई।
ने भी भारत की जीत में अहम भूमिका निभाई। उन्होंने 6.1 ओवर में नौ रन देकर तीन विकेट लिए जिसमें दोनों सलामी बल्लेबाज हिल्टन कार्टराइट (एक) और डेविड वॉर्नर (एक) के महत्वपूर्ण विकेट भी शामिल हैं। उन्हें ट्रेविस हेड (39) का विकेट भी मिल जाता, लेकिन स्लिप में रोहित शर्मा ने हाथ में आया कैच छोड़ दिया। उनके अलावा ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने 56 रन देकर दो विकेट लिए।
कोहली ने 14वें ओवर से दोनों छोर से कलाइयों के स्पिनर लगा दिए थे और इन दोनों ने फिर से खुद को साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। चहल ने फुलटॉस पर हेड को मिडविकेट पर कैच देने के लिए मजबूर किया। स्मिथ और हेड ने तीसरे विकेट के लिए 76 रन जोड़े।

ग्लेन मैक्सवेल (14) ने आते ही कुलदीप पर दो छक्के जड़कर अपने इरादे जतलाए। चहल ने हालांकि अपनी खूबसूरत गेंद पर इस आक्रामक बल्लेबाज को महेंद्रसिंह धोनी के हाथों स्टंप आउट करा दिया। ऐसे समय में जबकि ऑस्ट्रेलिया को स्मिथ की पिच पर टिके रहने की सख्त जरूरत थी तब पंड्या ने ऑस्ट्रेलियाई कप्तान को उछाल लेती गेंद पर स्थानापन्न रविंद्र जडेजा के हाथों कैच कराकर भारत को महत्वपूर्ण सफलता दिलाई। स्मिथ ने 76 गेंदें खेली और आठ चौके लगाए।

इसके बाद कुलदीप भारत की तरफ से वनडे में हैटट्रिक बनाने वाले तीसरे गेंदबाज बने। इस चाइनामैन गेंदबाज ने मैथ्यू वेड (2) को बोल्ड किया, एशटन एगर (2) को पगबाधा आउट किया जबकि पैट कमिन्स को धोनी के हाथों कैच कराकर हैटट्रिक पूरी की। उनसे पहले चेतन शर्मा (1987) और कपिल देव (1991) ने वन-डे में भारत की तरफ से हैटट्रिक बनाई थी। कपिल ने भी इसी मैदान पर श्रीलंका के खिलाफ हैटट्रिक बनाई थी। स्टोइनिस ने बाद में कुछ करारे शॉट लगाए और स्कोर 200 रन के पार पहुंचाया लेकिन इससे हार का अंतर ही कम हुआ। इससे पहले भारतीय पारी कोहली के इर्द-गिर्द घूमती रही।

बारिश ने पिछले कुछ दिनों से कोलकाता के क्रिकेटप्रेमियों के दिलों में धुकधुकी बनाए रखी, लेकिन आज जमकर धूप खिली और ऐसे में कोहली ने टॉस जीता और फिर अपने सदाबहार अंदाज में बल्ले से जलवा भी बिखेरा। पिछले मैच में शून्य पर आउट होने के बाद लग रहा था कि भारतीय कप्तान उसकी भरपाई करने के मूड में ही ईडन पर उतरा है। रोहित (7) के पांचवें ओवर में ही पैवेलियन लौटने के बाद कोहली ने अपने कौशल का भरपूर प्रदर्शन किया।
शुरू में रहाणे ने रन बनाने की जिम्मेदारी उठाई, लेकिन कोहली ने अपनी निगाहें जमाने के बाद खाली स्थानों से गेंद निकालकर और विकेटों के बीच अपनी खूबसूरत दौड़ से स्कोर बोर्ड को गति दी। आखिर में कोहली पहले 50 रन तक पहुंचे जो उनका वनडे में 45वां अर्द्धशतक भी है। इसके अगले ओवर में रहाणे ने भी वन-डे में अपना 20वां अर्द्धशतक पूरा किया।

रहाणे रन लेने में थोड़ी ढिलाई बरतने और कार्टराइट की फुर्ती के कारण इसके तुरंत बाद रन आउट होकर पवेलियन लौट गए। बाएं हाथ के स्पिनर एगर ने शुरू से दबाव में दिख रहे मनीष पांडे (3) को बोल्ड कर दिया लेकिन कोहली के क्रीज पर रहते हुए ऑस्ट्रेलियाई अपने असली जश्न के करीब नहीं दिख रहे थे।
केदार जाधव (24) ने हमेशा की तरह आते ही बल्लेबाजों पर हावी होने की रणनीति अपनाई और कप्तान का हौसला उनके साथ था। जाधव ने ही मार्कस स्टोइनिस पर पारी का पहला छक्का लगाया लेकिन नाथन कूल्टर नाइल की गेंद को अपर कट करना उन्हें महंगा पड़ा जो सीधे कुशल क्षेत्ररक्षक मैक्सवेल के पास चली गई। कूल्टर नाइल ने अगले ओवर में कोहली को बोल्ड करके ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को जश्न मनाने का असली मौका दिया।
कोहली अंदर की तरफ आती गेंद को थर्डमैन क्षेत्र में खेलना चाहते थे, लेकिन वह बल्ले का अंदरूनी किनारा लेकर विकेट में समा गई। कूल्टर नाइल की जगह गेंद थामने वाले रिचर्डसन ने अगले ओवर में धोनी (5) को स्मिथ के हाथों कैच करा दिया। धोनी भारत के लिए अपने 300वें वनडे में बल्ले से कमाल नहीं दिखा पाए।

धोनी के आउट होने से भारत की डेथ ओवरों की रणनीति पूरी तरह से प्रभावित हो गई। पंड्या (26 गेंदों पर 20 रन) क्रीज पर थे लेकिन ऑस्ट्रेलियाई उन पर नकेल कसने में सफल रहे। इस बीच भुवनेश्वर (20) का शॉट उनकी कनपटी के पास हेलमेट पर भी लगा जिससे इस ऑलराउंडर का आत्मविश्वास भी डिगा। बारिश के कारण 48वें ओवर में खेल रोकना पड़ा। खेल शुरू होने पर भारत ने अंतिम 13 गेंदों पर भुवनेश्वर, कुलदीप (शून्य), पंड्या और चहल (एक) के विकेट गंवाए। बुमराह दस रन बनाकर नाबाद रहे। (भाषा)



और भी पढ़ें :