बाल गीत : हरा पुदीना


अरी जरीना, कह री मीना।
देख हमारी क्यारी में यह,
भीना-भीना, हरा पुदीना।
देख-देख यह, कैसा छितरा।
रिमझिम-रिमझिम, पानी में यह,
दिखता कैसा निखरा-निखरा।
खरा नगीना, हरा पुदीना।

इसकी गंध, बहुत ही भाई।
दादी मां तो कहती इसमें,
पेट दर्द की छुपी दवाई।
हंसकर पीना, हरा पुदीना।

सिलबट्टे पर तो है बटनी।
खट्टी-मिट्ठी मन भावन यह,
आम पुदीना की अब चटनी।
बहा पसीना, हरा पुदीना।


 

और भी पढ़ें :