बाल कविता : काश! मैं डॉक्टर कहलाता

kids poem
- डॉ. मधु भारतीय

टॉमी भैया मुंह लटकाए
आए घर के अंदर,
'कुछ ठीक हुआ क्या?'
बोला छोटू बंदर।

आह, ऊह कर टॉमी बोले-
'बुरा हाल है मेरा',
ट्यूब लगाई, करी सिंकाई
फिर भी दर्द घनेरा।

मौज-मटरगस्ती करने में
सारा समय गंवाया,
माता-पिता ने समझाया था,
पर मैं समझ न पाया।

काश! कि मैं श्रमपूर्वक पढ़ता
तो कहलाता,
भारी फीस न देनी पड़ती,
स्वस्थ शीघ्र हो जाता।'

साभार- देवपुत्र



और भी पढ़ें :