बाल गीत : ठोको ताली

kids poem
पास हो गए पहले नंबर,
ठोको ताली।
जाएंगे कल,
ठोको ताली।
ध्यान लगाकर पाठ पढ़ा था,
रोज साल भर।
लिखे नोट्स थे और रखे थे,
सब संभालकर।
इससे मुझे मिला मीठा फल,
ठोको ताली।

साल गया था हंसते-हंसते,
मजे-मजे से।
पढ़ते लिखते धूम मचाते,
उछल-उछल के।
झरनों जैसे बहते कल-कल,
ठोको ताली।

बंद हुआ अब|
चेहरे पर खुशियां लौटीं,
आनंद हुआ अब।
भर गर्मी में ज्यों ठंडा जल,
ठोके ताली।

ALSO READ:मजेदार बाल कविता : बैगन भैया

(वेबदुनिया पर दिए किसी भी कंटेट के प्रकाशन के लिए लेखक/वेबदुनिया की अनुमति/स्वीकृति आवश्यक है, इसके बिना रचनाओं/लेखों का उपयोग वर्जित है...)



और भी पढ़ें :