निश्चिंत रहें, पूर्वोत्तर के हितों पर नहीं आएगी आंच-नरेन्द्र मोदी

Last Updated: गुरुवार, 12 दिसंबर 2019 (18:03 IST)
धनबाद (झारखंड)। संसद में नागरिकता संशोधन विधेयक बुधवार को पारित होने के बाद राज्यों, विशेष रूप से असम में हो रही हिंसा के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को अपील की कि पूर्वोत्तर के लोग, विशेषकर युवा उन पर भरोसा रखें, उनकी संस्कृति, विरासत, भाषा, परंपरा और जीवनचर्या को हर कीमत पर अक्षुण्ण रखा जाएगा। साथ ही उन्होंने लोगों से अनुरोध किया कि वे कांग्रेस और उसके सहयोगियों के भ्रम जाल में ना फंसें क्योंकि भाजपा पूर्वोत्तर को देश का ‘ग्रोथ इंजन’ बनाने के लिए कृतसंकल्प है।
झारखंड विधानसभा चुनावों के 16 दिसंबर को होने वाले चौथे चरण के प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुवार को यहां कहा कि भाजपा ‘संकल्प को सिद्धि’ में परिवर्तित करने के लिए सदा कृतसंकल्प रहती है। अतः उत्तर पूर्व के लोग विशेषकर युवा मुझ पर भरोसा रखें कि उनकी संस्कृति, विरासत, भाषा, परंपरा और जीवनचर्या को हर कीमत पर अक्षुण्ण रखा जाएगा।

उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर के युवा विशेषकर असम के युवा और आम लोग कांग्रेस और उसके सहयोगियों के भ्रम जाल में ना फंसें क्योंकि वह नागरिकता संशोधन कानून पर पूर्वोत्तर राज्यों में भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे हैं।
प्रधानमंत्री ने कहा कि भाजपा पूर्वोत्तर को देश का ग्रोथ इंजन बनाने के लिए कृतसंकल्प है। अतः उनके हितों पर किसी भी कीमत पर कोई आंच नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार काम कर रही है, वहां रेल लाइनें बनाई जा रही हैं। सड़कें, हवाई अड्डे बनाए जा रहे हैं। लोगों की शिक्षा के लिए शिक्षण संस्थान और स्वास्थ्य के लिए मेडिकल कॉलेज बनाए जा रहे हैं।

उन्होंने पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से पीड़ित होकर लाखों की संख्या में भारत आए वहां के अल्पसंख्यक हिंदू, सिख, ईसाई, पारसी, बौद्ध एवं जैन परिवारों के हाल को बयान किया और कहा कि उनके नारकीय जीवन से बाहर निकालने के लिए ही लाया गया है, इसका उद्देश्य किसी और वर्ग या संप्रदाय को नुकसान पहुंचाना कतई नहीं है।
उन्होंने कहा कि मैं तो एक्ट ईस्ट की नीति पर लगातार काम कर रहा हूं। मोदी ने कहा कि देश के सारे प्रधानमंत्री मिलकर जितनी बार पूर्वोत्तर की यात्रा पर गए होंगे, उससे अधिक मैं स्वयं वहां की यात्रा कर चुका हूं। मुझे क्षेत्र से विशेष लगाव है।

उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर के नौजवानों, विशेषकर असम के नौजवानों और आम जनता को यहां बाबा धाम के निकट से आश्वस्त करना चाहता हूं कि हमारी केन्द्र सरकार उनके हितों, उनके सांस्कृतिक जीवन, भाषा की हर कीमत पर रक्षा करेगी। उन्होंने कहा कि संसद में कैब पारित होने से उनके हितों को कोई नुकसान नहीं होगा।
मोदी ने दोहराया कि पूर्वोत्तर में जानबूझकर भ्रम फैलाया जा रहा है, वहां कई इलाकों में आग लगाने की कोशिश हो रही है। जबकि पूर्वोत्तर के लगभग सभी राज्य नागरिकता संशोधन अधिनियम के दायरे से बाहर हैं। लेकिन कांग्रेस और उनके साथी भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। ‘मैं अपील करता हूं कि पूर्वोत्तर युवा कांग्रेस के झूठ के जाल में न फंसें।’

उन्होंने झारखंड के लोगों और विशेषकर धनबाद के लोगों की पेयजल की समस्या की ओर संकेत करते हुए कहा कि 2024 तक साढ़े तीन लाख करोड़ रुपए खर्च कर देश में सभी घरों में पेयजल उनकी सरकार पहुंचाएगी, यह उसका संकल्प है।
राम मंदिर के मुद्दे की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के सारे रास्ते अब खुल चुके हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने सदा अपनी राजनीति के लिए सोचा है वह देश के बारे में सोचने में समय लगाती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने धनबाद और झारखंड के लोगों को सिर्फ धूल, धुंआ और धोखा दिया है जबकि उनकी सरकार राष्ट्रहित को ही सामने रख कर काम करती है।




और भी पढ़ें :