0

जगन्नाथ रथयात्रा : पुरी मंदिर के 25 चमत्कार और रहस्य

शुक्रवार,अगस्त 5, 2022
0
1
Jagannath Puri Rath Yatra 2022 : ओड़ीसा के पुरी में आषाढ़ शुक्ल द्वितीया के दिन भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकालकर उसी दिन 4 किलोमीटर दूर गुंडीचा मंदिर में भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और देवी सुभद्रा का रख खींचकर ले जाया जाता है। वहां पर भगवान जगन्नाथ 7 ...
1
2
Deepdan for Shri Jagannath: जगन्नाथ पुरी में रथयात्रा जब गुंडीचा मंदिर पहुंच जाती है तब दूसरे दिन दीपदान महोत्सव होता है। आओ जानते हैं कि प्रभु जगन्नाथ के लिए कैसे किया जाता है दीपदान।
2
3
Ahmedabad and Puri Rath Yatra: आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया को ओड़ीसा के पुरी में और गुजरात के अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा निकाली जाती है। आओ जानते हैं कि दोनों ही जगह की रथयात्रा में क्या है खास अंतर।
3
4
ओड़ीसा के पुरी में प्रतिवर्ष आषाढ़ द्वितीया पर प्रभु जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली जाती है। इस रथयात्रा में श्री बलभद्र और और सुभद्रा जी के रथ भी शामिल होते हैं। आओ जानते हैं देवी सुभद्रा और बलभद्र के बार में अनजाने राज।
4
5
Ahmedabad Jagannath Rath Yatra 2022 : अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की 145वीं रथ यात्रा प्रारंभ हो गई है। पुरी में जगन्नाथ की रथयात्रा की तरह ही यहां पर भी रथयात्रा निकलती है। इस रथ यात्रा में ‘पहिंद विधि’ की रस्म निभाई जाती है जिसे मुख्यमंत्री ...
5
6
Jagannath Puri Rath Yatra 2022 : 1 जुलाई 2022 शुक्रवार आषाढ़ शुक्ल द्वितीया के दिन से ओड़ीसा के पुरी में भगवान जगन्नाथ की यात्रा प्रारंभ हो गई है, जो एकादशी तक चलेगी। यानी कुल 10 दिन तक यह उत्सव मनाया जाता है। आओ जानते हैं इस भव्य रथयात्रा के बारे ...
6
7
Jagannath Rath yatra 2022 : 1 जुलाई से ओड़ीसा के पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा का प्रारंभ होता है। श्रीकृष्ण, बलराम और सुभद्राजी के रथ को खींचकर 4 किलोमीटर दूर गुंडीचा मंदिर ले जाया जाता है जहां पर भगवान 7 दिनों तक विश्राम करते हैं और उसके बाद ...
7
8
रथ यात्रा के पीछे का पौराणिक मत यह है कि स्नान पूर्णिमा यानी ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन जगत के नाथ श्री जगन्नाथ पुरी का जन्मदिन होता है। उस दिन प्रभु जगन्नाथ को बड़े भाई बलराम जी तथा बहन सुभद्रा के साथ रत्नसिंहासन से उतार कर मंदिर के पास बने स्नान मंडप ...
8
9
Jagannath puri ki kahani katha : प्रतिवर्ष आषाढ़ माह में ओड़ीसा के पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकलती है, जिसके दर्शन करने के लिए लाखों भक्त यहां आते हैं। लेकिन क्या आपको मालूम है कि चार धामों में से एक जगन्नाथ धाम में भगवान जगन्नाथ और भगवान ...
9
10
अगर आप श्री जगन्नाथ यात्रा में शामिल नहीं हो पा रहे हैं तो श्री जगन्नाथ यात्रा लाइव देखते हुए अपनी राशि का खास मंत्र बोल सकते हैं। राशि मंत्र से पहले विशेष नीलमाधव मंत्र बोलें, ये मंत्र आने वाले दिनों में खुशियों का वरदान देंगे...
10
11
हिन्दू धर्म के चार धामों में से एक ओड़ीसा के पुरी नगर की गणना सप्तपुरियों में भी की जाती है। इस नगर में प्रभु जगन्नाथ विराजमान है। इस पवित्र तीर्थ क्षेत्र को पुराणों में पुरुषोत्तम क्षेत्र कहा गया है। आओ जानते हैं कि क्यों इसे पुरुषोत्तम क्षेत्र ...
11
12
Jagannath puri rath yatra : 1 जुलाई 202 शुक्रवार से ओड़ीसा के समुद्री तट पर बसे पुरी शहर में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली जाएगी। यह यात्रा कई रस्मों के साथ करीब 9 दिनों तक जारी रहती है। आओ जानते हैं कि आखिर इसके पिछे का क्या है पौराणिक कारण या ...
12
13
पुरी का श्री जगन्नाथ मंदिर (Puri Jagannath Temple) एक हिन्दू मंदिर है, जो भगवान जगन्नाथ यानी श्री कृष्ण को समर्पित है। यह भक्तों की आस्था के केंद्र के रूप में विश्वभर में प्रसिद्ध है।
13
14
Jagannath Rath Yatra 2022 : चार पवित्र धामों में से एक पुरी में जगन्नाथ भगवान श्रीकृष्ण रूप में विराजमान है। यहां पर आषाढ़ माह में अमावस्या के बाद उनकी रथ यात्रा निकाली जाती है। आओ जानते हैं रथयात्रा से जुड़ी 14 रोचक जानकारी।
14
15
Bhagwan krishna ka dil kahan per hai: हिन्दू धर्म के बेहद पवित्र स्थल और चार धामों में से एक जगन्नाथ पुरी की धरती को भगवान विष्णु का स्थल माना जाता है। जगन्नाथ मंदिर से जुड़ी एक बेहद रहस्यमय कहानी प्रचलित है। स्थानीय मान्यताओं अनुसार कहते हैं कि इस ...
15
16
Jagannath Puri Rath Yatra 2022 : ओड़ीसा के पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा का आयोजन प्रतिवर्ष आषाढ़ माह की शुक्ल द्वितीया को होता है और इसका समापन एकादशी के दिन होता है। रथयात्रा जगन्नाथ मंदिर से निकलकर 3 किलोमीटर दूर गुंडीजा मंदिर पहुंचती है। ...
16
17
Jagannath Rath yatra 2022: ओड़ीसा के पुरी में निकलने वाली विश्‍व प्रसिद्ध जगन्नाथ यात्रा इस बार 1 जुलाई दिन शुक्रवार से शुरू हो रही है। यह हिन्दू कैलेंडर के अनुसार प्रतिवर्ष आषाढ़ माह की द्वितीया तिथि को निकलती है। इस यात्रा में शामिल होने के लिए ...
17
18
पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर भारत के चार पवित्र धामों में से एक है। यह मंदिर करीब 800 वर्ष से भी अधिक समय से विद्यमान है। प्रतिवर्ष आषाढ़ माह में ओडीसा के समुद्र के किनारे बसे पुरी शहर में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा का आयोजन होता है। इस विश्‍व प्रसिद्ध ...
18
19
Jagannath Rath Yatra Tradition: जगन्नाथ रथयात्रा के पहले प्रभु जगन्नाथ को 108 कलशों से शाही स्नान कराया जाता है। फिर 15 दिन तक प्रभु जी को एक विशेष कक्ष में रखा जाता है। जिसे ओसर घर कहते हैं। आखिर उन्होंने क्यों एकांत में 15 दिन के लिए रखा जाता है ...
19