टि्वटर करेगा आपदा से निपटने में मदद...

पुनः संशोधित सोमवार, 21 अगस्त 2017 (17:33 IST)
हमें फॉलो करें
वॉशिंगटन। टि्वटर और सोशल मीडिया के अन्य मंच सही समय में प्राकृतिक आपदाओं का पता लगाने में मदद कर सकते हैं और वैज्ञानिकों की मानें तो किसी इलाके में प्राकृतिक आपदा आने के दौरान जिन लोगों को त्वरित मदद की आवश्यकता होती है और जो लोग इससे सबसे पहले प्रभावित होते हैं उन्हें सोशल मीडिया के मंचों के जरिए, समय रहते सबसे पहले सचेत किया जा सकता है।

गौरतलब है कि हर दिन 50 करोड़ से अधिक किए जाते हैं। लिहाजा आपदाओं के दौरान समुदाय के लोग इसके असर से कैसे निपटें, इस बारे में नए में आंकड़े के इस्तेमाल के नए-नए तरीकों का पता लगाया जा रहा है।

स्थानीय सरकारें एवं राहत संस्थाएं किसी आपदा के समय समुदाय की इससे निपटने की क्षमता या उसके बाद के प्रभाव का आकलन कर सकती हैं, लेकिन वे वास्तविक समय में इनके असर का आकलन नहीं कर सकतीं।
अमेरिका में पेन्सिलवेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी से शोधकर्ताओं ने आपदा से सबसे पहले प्रभावित होने वाले लोगों को सतर्क करने के लिए सोशल मीडिया की क्षमता बताई।

उन्होंने अमेरिका में आए भीषण सैंडी तूफान के दौरान भेजे गए ट्वीटस और न्यूयॉर्क, न्यूजर्सी तथा पेन्सिलवेनिया में एक जनोपयोगी सेवा कंपनी द्वारा घटना के बाद बिजली जाने के बारे में उपलब्ध कराई
गई सूचना की तुलना की।

पावर ग्रिड और टि्वटर पर ट्वीट के जरिए लोगों की एक करोड़ बार से अधिक की बातचीत से प्राप्त सूचना की तुलना कर टीम ने ऐसी घटनाओं का पता लगाने के लिए एक प्रणाली तैयार की। (भाषा)



और भी पढ़ें :