शुक्रवार, 12 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. वेबदुनिया सिटी
  3. इंदौर
  4. Worker burnt to death in firecracker factory explosion
Last Updated : बुधवार, 17 अप्रैल 2024 (13:11 IST)

पटाखा फैक्ट्री विस्फोट में झुलसे मजदूर की मौत

Amba chandan
Indore news in hindi : इंदौर जिले में पटाखा कारखाने में हुए विस्फोट में बुरी तरह झुलसे तीन मजदूरों में शामिल 20 वर्षीय एक युवक की एक अस्पताल में इलाज के दौरान बुधवार को मौत हो गई। 
बताया जा रहा है हादसा इतना भयावह था कि पूरी बिल्डिंग जमींदोज हो गई। टीन शेड 50 मीटर दूर तक उड़ गया। हादसे के बाद फैक्ट्री का संचालक फरार हो गया है।
 
चोइथराम अस्पताल के उपनिदेशक (स्वास्थ्य सेवाएं) डॉ. अमित भट्ट ने बताया कि पटाखा कारखाने में हुए विस्फोट में गंभीर रूप से घायल रोहित परमानंद (20) इस घटना के बाद से सदमे में था और उसे जीवन रक्षक तंत्र पर रखा गया था। तमाम प्रयासों के बावजूद रोहित की जान नहीं बचाई जा सकी।
 
उन्होंने बताया कि पटाखा कारखाना विस्फोट में बुरी तरह झुलसे 2 अन्य मजदूरों-अर्जुन राठौर (27) और उमेश चौहान (29) की हालत स्थिर बनी हुई है।
 
पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) उमाकांत चौधरी ने बताया कि पटाखा कारखाना विस्फोट के कारण दम तोड़ने वाले मजदूर रोहित के शव का पोस्टमॉर्टम कराया जा रहा है।
 
उन्होंने बताया कि पटाखा कारखाने के संचालक मोहम्मद शाकिर खान के खिलाफ विस्फोटक अधिनियम के साथ ही भारतीय दंड विधान की धारा 308 (आपराधिक मानव वध का प्रयास) के तहत महू थाने में मामला दर्ज किया गया है।
 
डीएसपी ने बताया कि पटाखा कारखाने में विस्फोट के बाद से खान फरार है और पुलिस के अलग-अलग दल उसकी तलाश कर रहे हैं।
 
चौधरी ने बताया कि इंदौर से करीब 25 किलोमीटर दूर जंगली इलाके में एक खेत में चलाए जा रहे कारखाने में मंगलवार को रस्सी बम बनाए जाने के दौरान विस्फोट हुआ था।
 
अनुविभागीय मजिस्ट्रेट (SDM) चरणजीत सिंह हुड्डा ने बताया कि यह कारखाना अली फायर वर्क्स नामक फर्म का मालिक मोहम्मद शाकिर खान चला रहा था। कारखाने में एक बार में केवल 15 किलोग्राम बारूद जमा कर रखने की मंजूरी दी गई थी, लेकिन घटनास्थल का मुआयना करने के बाद पता चला कि वहां इससे काफी ज्यादा मात्रा में बारूद जमा करके रखा गया था। (इनपुट भाषा)
Edited by : Nrapendra Gupta 
ये भी पढ़ें
महिला अधिकारों की खिल्ली उड़ाती कॉर्पोरेट संस्कृति, वर्कप्लेस में महिलाओं को सेनेटरी पैड तक नहीं मिल रहे