हिन्दी कविता : त्रासदी

poem-pic-1-630
 
इसमें
तुम्हारा दोष कतई नहीं है
कि तुम
आदमियत से
की ओर मुड़ते
अपने कदमों को
खामोशी से ताक रहे हो।
 
क्योंकि
यह नजरिया तो
तुम्हें मिला है विरासत में
और अपनी संस्कृति में
बंधे रहना ही
तुम्हारी पहचान है।



और भी पढ़ें :