कविता : हर एक ग़म को हर्फ़ में ढाला था

 Meena Kumari

हर एक ग़म को हर्फ़ में ढाला था
किसे कहां पता भीतर हाला था
लब की शोख हंसी चेहरे का नूर
ख़ुद को तपा कर उसने ढाला था

जिस्म की ज़रूरत जानते हैं सब
रूह की चाह को उसने पाला था

तुम नाम देते हो हुनर का जनाब
दर्द को आंसुओं में संभाला था

मीना ने मय में बहा दी ज़िंदगी
सलीका मुहब्बत का आला था




और भी पढ़ें :