चंद्रयान 2 मिशन पर कविता : हर भारतीय साथ खड़ा है

Chandrayaan 2


- डॉ. अनिल कुटुम्बले

का मिशन था जगत से काफी निराला,
गर्व है 'इसरो' और 'सिवन' पर भले छिन गया निवाला।

चांद पर निश्चित उतरता यान का लैंडर 'विक्रम',
'प्रज्ञान' रोवर चलता गर्व से - उस पर कुछ कदम।

टूटा हो संपर्क यान का भले ही फिलहाल,
हौसले पर यकीन है सभी को हर हाल।

गम है मंजिल न छूने का- आगे जीतेंगे, इसमें नहीं डाउट
विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले भी शून्य पर हुए हैं आउट।
सफलता शान से मिलेगी - जब इरादा है नेक,
बस कुछ समय के लिए लिया है - एक छोटा सा ब्रेक।

कुछ पाने के लिए भले ही - कुछ खोना हमें पड़ा है,
फहराओ चांद पर अपना झंडा - हर भारतीय साथ खड़ा है।

 

और भी पढ़ें :