जानिए सॉफ्ट टिशू कैंसर क्या है और किन लक्षणों से इसे पहचानें?

soft tissue sarcoma
दरअसल सॉफ्ट टिशू कैंसर वहीं बीमारी है जिससे पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली भी पीड़ित थे। आइए एक नजर डाले कैंसर के इस प्रकार पर और जानें कि सॉफ्ट टिशू कैंसर होने की आशंका पर कौन से लक्षण शरीर में नजर आते हैं।

हमारे शरीर में सॉफ्ट टिशू ट्यूमर होते हैं लेकिन सभी खतरनाक नहीं होते है। आमतौर पर ये सार्कोमा, फैट, मसल्स, नर्व्स, फाइबर टिशू, रक्त धमनी या डीप स्किन टिशू में विकसित होता है। लेकिन जब सॉफ्ट टिशू में कैंसर की शुरुआत होती है तब यह मुख्य तौर पर हाथ या पैर से होता है और तभी इसके साथ सार्कोमा शब्द जुड़ जाता है, तो इसका मतलब है कि उस ट्यूमर में कैंसर विकसित हो गया है और वह घातक है।
आइए, अब जानते हैं वे सामान्य लक्षण जो सॉफ्ट टिशू कैंसर होने की आशंका पैदा करते है -

1. शरीर के किसी भी हिस्से में कोई नई गांठ दिखे या फिर कोई गांठ जो बढ़ रही हो।
2. पेट में दर्द जो हर दिन धीरे-धीरे बढ़ रहा हो।
3. स्टूल (मल) या वॉमिटिंग में खून आना।
4. शरीर में कहीं भी गठान होना।
5. पेट में कई बार असहनीय दर्द होना।
6. स्टूल (मल) का रंग काला आना या उसके साथ ही ब्लीडिंग होना।

नोट : ऐसे कोई भी लक्षण दिखने पर उन्हें गंभीरता से लें और डॉक्टर की सलाह अनुसार एक्सरे, अल्ट्रासाउंड, एमआरआई जैसी जांच करवा कर सॉफ्ट टिशू कैंसर होने व नहीं होने की पुष्टि करें।


 

और भी पढ़ें :