Lungs Problem: आपके फेफड़ों के लिए क्‍या अच्‍छा और क्‍या बुरा है?

Lungs Diet
कोरोना संक्रमण में सबसे ज्‍यादा जरूरी है अपने दिल और फेफड़ों को ताकतवर बनाना। अगर यह दो अंग स्‍वस्‍थ्‍य और मजबूत होंगे तो कोई भी संक्रमण आपका कोई नुकसान नहीं कर पाएगा।

बात करते हैं सबसे पहले अपने फेफड़ों को मजबूत बनाने की। आखि‍र ऐसी क्‍या डाइट ली जाए कि फेफडें मजबूत रहे हमेशा के लिए।

सिगरेट का धुआं और प्रदुषण के साथ ही खराब आहार खाने से लंग्स कमजोर हो सकते हैं। ऐसे में लंग को हमेशा मजबूत रखने के लिए हेल्दी लंग्स डाइट की जरूरत होती है। एक स्वस्थ, अच्छी तरह से संतुलित आहार आपके शरीर को मजबूत रखने के लिए एक लंबा रास्ता तय करता है, जिसमें आपके फेफड़े भी शामिल हैं। फेफड़ों को मजबूत करने के तरीके और भी कई हैं, लेकिन डाइट से बेहतर कुछ नहीं।

दरअसल, फेफड़े ऑक्सीजन को फिल्टर करने का काम करते हैं। इसलिए हमेशा हेल्दी रहने के लिए फेफड़ों का बिना रुकावट के काम करना जरूरी है।

शरीर का ज्यादातर काम फेफड़ों के

भरोसे होता है। आइए जानते हैं हेल्दी फेफड़ों के लिए क्या नहीं खाना चाहिए और किन चीजों को डाइट में शामिल करना चाहिए।

कॉफी
कॉफी प्रेमियों के लिए अच्छी खबर है। आपका सुबह का कप आपके फेफड़ों पर एहसान कर सकता है। रोजाना एक कप कॉफी फेफड़ों को अच्‍छा रखता है। यह कैफीन के कारण हो सकता है, जो एंटी इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर होता है और पॉलीफेनोल, जो एंटीऑक्सिडेंट का भी उच्च स्रोत है।

हाई फाइबर फूड्स
रसभरी, मटर, दाल, और काली फलियां सभी फाइबर से भरपूर होती हैं। जो आपके फेफड़ों के लिए बहुत अच्छे हैं। शोध बताते हैं कि अधिक फाइबर खाने वाले लोगों में फेफड़े की समस्याएं नहीं होती हैं। फेफड़े उन लोगों की तुलना में बेहतर काम करते हैं जो ज्यादा फाइबर नहीं खाते हैं। अन्य फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों में साबुत गेहूं स्पेगेटी, बेक्ड बीन्स, चिया बीज, क्विनोआ, नाशपाती और ब्रोकोली शामिल हैं।

अनाज
साबुत अनाज आपके फेफड़ों के लिए बहुत अच्छा है। इनमें ब्राउन राइस, पूरी-गेहूं की रोटी, पूरे-गेहूं का पास्ता, जई, क्विनोआ और जौ शामिल हैं। न केवल फाइबर में उच्च-अनाज वाले खाद्य पदार्थ हैं, जिसमें एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण हैं, बल्कि वे विटामिन ई, सेलेनियम और आवश्यक फैटी एसिड से भरपूर हैं।

जामुन
ब्लूबेरी और स्ट्रॉबेरी जैसे लाल और नीले फल एंथोसायनिन नामक फ्लेवोनॉयड से भरपूर होते हैं। जो एक मजबूत एंटीऑक्सीडेंट भी है। शोध से पता चलता है कि यह वर्णक आपके फेफड़ों की प्राकृतिक गिरावट को कम कर सकता है। जामुन का सेवन फेफड़ों के स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा माना जाता है।

डेयरी प्रोडक्‍टस
दूध पीना और पनीर, दही और अन्य डेयरी उत्पाद खाने से आपके फेफड़ों के कैंसर की संभावना कम हो सकती है। आपको अस्थमा या फेफड़ों की कोई अन्य समस्या है, तो डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन न करें इससे आपके बलगम उत्पादन में कटौती हो सकती है।

हरी सब्जियां
पालक, स्विस चार्ड और अन्य पत्तेदार साग के साथ अपनी प्लेट पर जरूर सजाएं इससे आप फेफड़ों के कैंसर होने की संभावना कम कर सकते हैं। हरा साग इस उद्देश्य के लिए विशेष रूप से अच्छा है। यह इसलिए हो सकता है क्योंकि वे कैरोटीनॉयड में उच्च हैं, जो एंटीऑक्सिडेंट हैं।

ज्‍यादा शराब
ज्‍यादा शराब पीना लीवर के लिए और फेफड़ों के लिए बुरा है। शराब में सल्फेट्स अस्थमा के लक्षणों को खराब कर सकते हैं, और इथेनॉल आपके फेफड़ों की कोशिकाओं को प्रभावित करता है। अगर आप बहुत अधिक पीते हैं, तो आपको निमोनिया और फेफड़ों की अन्य समस्याएं होने की अधिक संभावना है।

प्रोसेस्ड मीट
वि‍शेषज्ञों का मानना है कि प्रोसेस्ड मीट को संसाधित करने और संरक्षित करने में उपयोग किए जाने वाले नाइट्राइट फेफड़ों में सूजन और तनाव पैदा कर सकते हैं। बेकन, हैम, डेली मांस, और सॉसेज सभी प्रोस्‍टेड मीट की श्रेणी में आते हैं।

ज्यादा नमक
नमक फेफड़ों की समस्याओं के लिए बहुत अधिक मुश्किलें खड़ी कर सकता है। जो लोग बहुत अधिक नमक खाते हैं, उनमें ब्रोंकाइटिस होने की आशंका ज्‍यादा होती है। एक उच्च-सोडियम आहार अस्थमा के लक्षणों को खराब कर सकता है। नमक का कम सेवन ही अच्‍छा है।



और भी पढ़ें :