धनियों के तो धन हैं लाखों

मुझ निर्धन के धन बस तुम हो।



और भी पढ़ें :