पृथ्वी दिवस 22 अप्रैल : क्या कहती है धरती हमारी

मैं जिस परिवार की हूं, उसे सौर परिवार कहते हैं। इसमें मेरे अतिरिक्त मेरे 8 और बहन-भाई हैं ‍जिन्हें बुध, गुरु, शुक्र, मंगल, बृहस्पति, शनि, अरुण, वरुण और यम नाम दिया गया है। हमारे भी परिवार हैं। इन्हें उपग्रह या चंद्रमा कहते हैं। हम सभी अपने उपग्रहों को साथ लिए सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाते रहते हैं। हम भी अपने उपग्रहों को साथ लिए सूर्य के चक्कर लगाते रहते हैं और अपनी-अपनी धुरी पर भी घूमते रहते हैं। जब हम अपनी कीली (धुरी) पर चक्कर लगाते हैं, तो इसमें लगने वाला समय दिन कहलाता है। जितनी देर में हम सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाते हैं, वह वर्ष कहलाता है। हां, यह बात जरूर है कि हरेक का अपनी कीली पर और सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाने का समय अलग-अलग है। अंतरिक्ष में कोई भी ऐसी चीज नहीं है, जो अपनी जगह स्‍थिर हो। यहां तक कि हमारा सूर्य भी अपनी धुरी पर घूमते हुए आकाशगंगा की नाभि के चारों ओर चक्कर लगाता है।
सौर परिवार के क्रम के आधार पर बुध और शुक्र के बाद मेरा तीसरा स्थान है, परंतु आकार की दृष्टि से 5वां स्थान है। हमारे में बृहस्पति सबसे बड़ा ग्रह है। सूर्य से मेरी दूरी 14.96 करोड़ किलोमीटर है। इस दूरी को खगोलीय इकाई कहते हैं, जो अंतरिक्ष में पाए जाने वाले ग्रहों के बीच की दूरी को नापने के काम आती है। इस दूरी को प्रकाश वर्ष के द्वारा भी निश्चित करते हैं। प्रकाश 1 सेकंड में 3 लाख किलोमीटर की दूरी तय करता हुआ 1 वर्ष में 9,500 अरब किलोमीटर की दूरी तय कर लेता है।
मेरा आकार नारंगी की तरह है। अत: पूरी तरह गोल न होकर ऊपर से नीचे की ओर कुछ दबा हुआ और बीच में उभार लिए है। इसीलिए उत्तर और दक्षिण के बिंदुओं को मिलाने वाली रेखा 12,712 किलोमीटर व्यास तथा बीच का उभार वाला व्यास 12,755 किलोमीटर है।

मेरे शरीर का कुल क्षेत्रफल 51,01,00,448 वर्ग किलोमीटर है। इसका 70.78 प्रतिशत भाग जल से ढंका है। केवल 29.22 प्रतिशत भाग सूखा है जिस पर तुम लोगों की दुनिया बसी हुई है। मेरे शरीर का घनापन पानी की तुलना में 5.517 है तथा शरीर की औसत गर्मी 59 डि. सेल्सियस है।
मेरा वजन 6,60,00,00,00,00,00,00,00,00,000 टन है। मेरा शरीर सीधा न होकर सतह पर 23-2/3 झुका हुआ है और सूरज के चारों ओर चक्कर लगाने से अंडाकार मार्ग पर यह झुकाव 66-1/2 हो जाता है। मेरे झुकाव के कारण ही सब जगह दिन-रात और ऋतुएं एक-सी नहीं होती हैं। मैं अपनी धुरी पर 23 घंटा 56 मिनट और 4 सेकंड में एक बार घूम जाती हूं। इसी कारण तुम्हारा दिन 24 घंटे का माना गया है।






और भी पढ़ें :