डॉक्टर की सलाह के बिना रोजा ना रखें मधुमेह और दिल के मरीज

FILE


प्रो. कुमार ने कहा कि इसी तरह जिन लोगों को उनके रहन-सहन के कारण मधुमेह (टाइप टू) हुआ है वे रोजा रख सकते हैं लेकिन इसके लिए उन्हें काफी सावधानी बरतनी होगी। ऐसे लोगों को अपने खाने-पीने का तरीका बदलना होगा। ऐसे लोगों को सुबह सेहरी में पर्याप्त खाना खा लेना चाहिए और उसके साथ अपनी दवाएं ले लेनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि इस बात का भी ख्याल रखा जाना चाहिए कि ऐसे रोगी जो भी खाना खाएं वह ज्यादा तला-भुना न हो और अगर मांसाहार लेते हैं तो वह बहुत कम मात्रा में लेना चाहिए तथा काफी कम तेल मसाले में बना हुआ होना चाहिए।

वह कहते हैं कि इफ्तार के समय भी ऐसे रोगियों को एकदम से पूरा खाना नहीं खा लेना चाहिए बल्कि थोड़े-बहुत फल और फलों का ज्यूस लेना चाहिए और कुछ और हल्की-फुल्की खाने की चीजें लेकर तुरंत दवा ले लेनी चाहिए।
भाषा|

विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®
 

और भी पढ़ें :