Special Story:5 सवालों से समझें कोरोना वैक्सीनेशन का पूरा प्लान,जानिए आपके हर सवाल का जवाब!

एक दिन में क्यों सिर्फ 100 लोगों को लगेगी कोरोना वैक्सीन ?

Corona vaccine
Author विकास सिंह| Last Updated: सोमवार, 14 दिसंबर 2020 (15:00 IST)
कोरोना महामारी से जूझ रहे देश को नए साल पर कोरोना वैक्सीन का गिफ्ट मिल सकता है। एक और जहां कोरोना वैक्सीन बनाने वाली तीन कंपनियों ने सरकार से वैक्सीन के इमरजेंसी अप्रूवल की मंजूरी मांगी है तो दूसरी ओर सरकार ने वैक्सीनेशन की तैयारी तेज कर दी है।

नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप ऑन वैक्सीन एडमिनिश्ट्रेशन (NEGVAC) ने वैक्सीनेशन को लेकर जो नई गाइडलाइंस जारी की है उसके मुताबिक एक दिन में अधिकतम 100 लोगों का वैक्सीनेशन ही किया जाएगा। नई गाइडलाइन के मुताबिक राज्य खुद से वैक्सीनेशन का दिन और तारीख तय कर सकेंगे। नई गाइडलाइन आने के बाद अब वैक्सीनेशन को लेकर लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठ रहे है।


1-एक दिन में 100 लोगों की सीमा क्यों?- कोरोना वैक्सीन को लेकर नई गाइडलाइन में एक दिन में अधिकतम 100 लोगों के की गाइडलाइन पर मध्यप्रदेश के राज्य टीकाकरण अधिक डॉ. संतोष शुक्ला कहते हैं कि व्यावहारिक कठिनाई और कोविड प्रोटोकॉल के चलते एक दिन में अधिकतम 100 लोगों की टीकाकरण हो हो सकेगा। वह कहते हैं कि एक घंटे में सभी प्रोटोकॉल को अपनाते हुए 7-8 लोगों का ही वैक्सीनेशन हो सकेगा।
कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण करने वाले व्यक्ति को आंधे घंटे वैक्सीन ऑब्जर्वेशन ऑफिसर की निगरानी में रहना होगा। इसलिए टीकाकरण केंद्र पर क्राउट मैनेजमेंट को देखते हुए एक दिन में अधिकतम 100 लोगों के टीकाकरण की व्यवस्था रखी गई है। टीकाकरण केंद्र पर स्वास्थ्य विभाग की पांच लोगों की टीम तैनात रहेगी जिसमें एक वैक्सीनेटर ऑफिसर,तीन सपोर्ट स्टॉफ,एक ऑब्जर्वेशन वाला अधिकारी होगा

2-किस चरण में किसका वैक्सीनेशन?- एक दिन में 100 लोगों की वैक्सीनेशन की गाइडलाइन आने के बाद अब सभी के मन में सवाल यह उठ रहा है कि कोरोना वैक्सीन किसको सबसे पहले मिलेगी। ‘वेबदुनिया’ के जरिए लोगों से टीकाकरण की जानकारी साझा करते हुए डॉ. संतोष शुक्ला कहते हैं कि पहले चरण में कोरोना वैक्सीन कोरोना से लड़ रहे हेल्थकेयर वर्कर यानि स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े सरकारी और प्राइवेट दोनों ही सेक्टर को डॉक्टरों और कर्मचारियों को लगाई जाएगी।

इसके बाद कोरोना वैक्सीन 50 साल उपर वाले और हाईरिस्क की श्रेणी में आने वाले लोगों (कैंसर,डायबिटीज,हाइपरटेंशन बीमारी से पीड़ित) को लगाई जाएगी। वहीं तीसरे चरण में कोरोना वैक्सीनेशन फ्रंटलाइन वर्कर्स (पुलिस,नगर निगम, डिजास्टर मैनेजमेंट) के लोगों को वैक्सीनेशन होगा।
3-कैसे होगी लोगों की पहचान ?- कोरोना वैक्सीनेशन के लिए लोगों की पहचान और उन तक सूचना पहुंचाने के लिए वोटर आईडी कार्ड का उपयोग किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग की ओर से तैयार किए गए को-विन सॉफ्टवेयर की मदद से वोटर आईडी कार्ड के जरिए 50 से उपर और 50 से कम आयु वर्ग के लोगों की श्रेणियां तैयार की जा रही है। जिसकी मदद से पूरा टीकाकरण कार्यक्रम चलेगा।

4-कहां पर होगा टीकाकरण?- कोरोना की टीकाकरण की व्यवस्था कुछ वैसी होगी जैसी चुनाव के समय पोलिंग बूथों पर होती है। कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण के लिए बूथ बनाकर हर व्यक्ति के लिए निश्चित दिन पर एक समय स्लॉट निर्धारित किया जाएगा और लोगों को नियत समय पर पहुंचकर कोरोना वैक्सीनेशन कराना होगा।
5-वैक्सीनेशन की जानकारी कैसे मिलेगी?-कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण का पूरा प्लान हाईटेक तरीके से तैयार किया गया
है। केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए को-विन (CO-WIN) कंप्यूटर आधरित सॉफ्टवेयर तैयार किया है। वैक्सीन के टीकाकरण के लिए लोगों को एसएमएस के माध्यम से सूचना भेजी जाएगी जिसमें टीका लगवाने का दिन और समय लिखा होगा। इसके बाद लोगों को निश्चित दिन और निश्चित समय पर टीकाकरण कराने के लिए आना होगा।




और भी पढ़ें :