Pfizer : कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में भारत को जल्द मिलने वाला है एक और हथियार

पुनः संशोधित मंगलवार, 22 जून 2021 (19:53 IST)
कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में बहुत जल्द भारत को एक और हथियार मिलने वाला है। मीडिया खबरों के मुताबिक अमेरिकी दवा निर्माता कंपनी के सीईओ अल्बर्ट बौर्ला ने मंगलवार को कहा कि भारत में की स्वीकृति पाने के लिए प्रक्रिया अब अंतिम चरण में है। बौर्ला कहा कि मैं यह उम्मीद करता हूं कि बहुत जल्द हम सरकार के साथ अंतिम समझौते पर फैसला कर लेंगे।
वर्तमान में देश में तीन कोविशील्ड, कोवैक्सीन, और स्पूतनिक-V के आपात इस्तेमाल को मंजूरी दी गई है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को स्पष्ट किया कि भारत में जिन दो वैक्सीन- कोविशील्ड और कोवैक्सीन का वैक्सीनेशन कार्यक्रम में इस्तेमाल किया जा रहा है, वे दोनों ही डेल्टा वेरिएंट में प्रभावी हैं।
स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि लेकिन वे किस हद तक और किस अनुपात में एंटीबॉडी टाइटर्स का उत्पादन करते हैं, इसे हम जल्द ही आपके साथ साझा करेंगे।
केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि का डेल्टा वेरिएंट दुनिया के 80 देशों में मौजूद है, जबकि डेल्टा प्लस (Delta Plus) वेरिएंट 9 देशों में पाया गया है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि डेल्टा प्लस वेरिएंट अमेरिका, ब्रिटेन, स्विट्‍जरलैंड, जापान, पोलैंड, नेपाल, चीन और रूस में पाए गए हैं। वहीं भारत में डेल्टा प्लस वेरिएंट के 22 मामले सामने आए हैं। इनमें सर्वाधिक 16 महाराष्ट्र में एवं बाकी मामले मध्यप्रदेश और केरल में मिले हैं। हालांकि महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि महाराष्ट्र में डेल्टा प्लस वेरिएंट के 21 मामले सामने आए हैं। भूषण ने कहा कि इस संबंध में महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और केरल को पत्र भी लिखा गया है।



और भी पढ़ें :