कोरोना काल में भारी पड़ सकती हैं सर्दियां, करनी होंगी ये तैयारियां

Last Updated: शुक्रवार, 9 अक्टूबर 2020 (07:46 IST)
नई दिल्ली। आगामी सर्दी के मौसम में सांस की समस्याओं, बाहर से आने वाले मरीजों की बड़ी तादात और बड़े उत्सव समारोहों को ध्यान में रखते हुए, प्रतिदिन के लगभग 15,000 नए मामलों के लिए दिल्ली को तैयार करने की आवश्यकता है। राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (NCDC) की रिपोर्ट में इसको लेकर आगाह किया गया है।
नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल की अध्यक्षता में विशेषज्ञ समूह के मार्गदर्शन में NCDC
द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट में दिल्ली सरकार से इसके लिए व्यवस्था करने की सिफारिश की गई है।

ने अपनी 'कोविड-19 के नियंत्रण के लिए संशोधित रणनीति के संस्करण 3.0' में यह भी बताया कि दिल्ली में समग्र कोविड-19 मामले में मृत्यु दर 1.9 प्रतिशत है, जो राष्ट्रीय औसत 1.5 प्रतिशत से अधिक है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि जहां तक संभव हो मृत्यु दर को कम करना महामारी के प्रबंधन के प्रमुख उद्देश्यों में से एक होना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी गुरुवार को कोरोना के खिलाफ एक नए जागरूकता अभियान की शुरुआत की है। लोगों से मास्क पहनने के साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की भी अपील की जा रही है। (भाषा)



और भी पढ़ें :