Corona Virus : भारत में 21 दिन का LockDown, मेडिकल सुविधाओं के लिए 15000 करोड़ का प्रावधान

narendra modi
वेबदुनिया न्यूज डेस्क| Last Updated: मंगलवार, 24 मार्च 2020 (20:30 IST)
नई दिल्ली। की गंभीरता के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक सप्ताह के अंदर दूसरी बार राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा...

-कोरोना से निपटने के लिए सरकार ने किया 15 हजार करोड़ रुपए का किया प्रावधान।
-इससे मेडिकल सुविधाएं जुटाई जाएंगी।
-इस समय सभी राज्यों की प्राथमिकताएं हेल्थ केयर ही होनी चाहिए।

-आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई बनी रहेगी।
-आप अपना ध्यान रखिए और अपनों का ध्यान रखिए। आत्मविश्वास के साथ कानून और नियमों का पालन करिए।
-बिना डॉक्टरों से पूछे कोई दवाई नहीं लें।
-हम इन बंधनों का स्वीकार करें।
-हफ्तों तक कई देशों के नागरिक घरों से बाहर नहीं निकले। यही कारण है कि ये देश महामारी से बाहर निकलने की ओर बढ़ रहे हैं।
-हमारे सामने सिर्फ एक ही मार्ग है कि हमें घर से बाहर नहीं निकलना है। चाहे जो हो जाए घर में रहना है।
-प्रधानमंत्री से लेकर गांव के छोटे नागरिक तक सभी के लिए सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी है।
-हमें इसको फैलने की चेन को तोड़ना है। आज के संकल्प ही तय करेंगे हम इस बीमारी पर कितना नियंत्रण पा सकते हैं।
-आप याद रखें कि जान है तो जहान है। यह धैर्य और अनुशासन की घड़ी है।
-जब देश में लॉकडाउन की स्थिति है, तब तक हमें अपना वचन निभाना है।


-कोरोना के लक्षण दिखने में काफी समय लगता है।
-डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक इस महामारी से संक्रमित एक व्यक्ति सैकड़ों लोगों तक इस बीमारी को पहुंचा सकता है।
-यह आग की तरह फैलता है।
-एक रिपोर्ट के मुताबिक संक्रमित लोगों पहले एक लाख संक्रमित होने में 67 दिन लगे, जबकि 2 लाख पहुंचने में 11 दिन लगे, 2 लाख से 3 लाख लोगों तक यह बीमारी पहुंचने में सिर्फ 4 दिन लगे।
-यह जब फैलना शुरू होता है तो इसे रोकना काफी मुश्किल होता है।
-इटली हो या अमेरिका इनकी स्वास्थ्य सेवा, आधुनिक संसाधन पूरी दुनिया में बेहतरीन मानी जाती हैं, बावजूद इसके ये देश कोरोना का प्रभाव कम नहीं कर पाए।

-नरेन्द्र मोदी का ऐलान, भारत में 21 दिन का लॉकडाउन।
-यदि ये 21 दिन नहीं संभले तो देश और आपका परिवार 21 साल पीछे चला जाएंगे।
-यह बात मैं आपके परिवार के सदस्य के नाते कह रहा हूं।
-बाहर निकलना क्या होता यह 21 दिन के लिए भूल जाएं।
-इस लॉकडाउन ने आपके घर के दरवाजे पर एक लक्ष्मण रेखा खींच दी है।


-मोदी का ऐलान, पूरे देश में रात 12 बजे से लॉकडाउन
-कोरोना से निर्णायक लड़ाई के लिए यह कदम जनता कर्फ्यू से भी ज्यादा सख्त है।
-एक-एक भारतीय के जीवन को बचाना इस समय मेरी और भारत सरकार, हर राज्य सरकार की, स्थानीय निकाय की सबसे बड़ी प्राथमिकता है।

-इस महामारी से निपटने का एकमात्र विकल्प है सोशल डिस्टेंसिंग।
-कोरोना से बचने के लिए इसके अलावा कोई रास्ता नहीं है।
-कोरोना को फैलने से रोकना है तो उसके संक्रमण की साइकिल को तोड़ना होगा।
-कुछ लोग इस गलतफहमी में हैं कि सोशल डिस्टेंसिंग केवल बीमारों के लिए है, यह सोचना सही नहीं है।
-कुछ लोगों की लापरवाही आपको, आपके बच्चों, माता-पिता और पूरे देश को मुश्किल में डाल सकती है।
-ऐसी लापरवाही जारी रही तो इसकी बहुत बड़ी कीमत भारत को चुकानी पड़ेगी।


-परीक्षा की इस घड़ी में हर वर्ग के लोग साथ आए। सभी ने इसे सफल बनाया।
- भारत ने दिखा दिया कि जब देश पर संकट आता है, मानवता पर संकट आता तो हम सभी भारतीय एकजुट होकर उसका मुकाबला करते हैं।
-जनता कर्फ्यू की सफलता के लिए आप सभी प्रशंसा के पात्र हैं।


और भी पढ़ें :