गुरुवार, 18 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. कोरोना वायरस
  4. 2 thousand people attended Ijtima, Corana feared
Written By
Last Updated : मंगलवार, 31 मार्च 2020 (00:24 IST)

निजामुद्दीन में मरकज़ के इज्तिमा में 2 हजार लोगों ने शिरकत की, 200 लोग Corana संदिग्ध निकले

निजामुद्दीन में मरकज़ के इज्तिमा में 2 हजार लोगों ने शिरकत की, 200 लोग Corana संदिग्ध निकले - 2 thousand people attended Ijtima, Corana feared
नई दिल्ली। दक्षिण दिल्ली के निजामुद्दीन पश्चिम इलाके में 1 से 15 मार्च के बीच तबलीग-ए-जमात के इज्तिमे (मजहबी मकसद से एक खास जगह जमा होना) में 2 हजार से ज्यादा लोगों ने शिरकत की थी, जिसमें से 200 लोग कोरोना संदिग्ध निकले। इस आयोजन में शामिल हुए तेलंगाना के 6 लोगों की कोरोना वायरस संक्रमण से मौत हो गई है, जिसके कारण यह मामला और भी गंभीर हो गया है।

इनमें इंडोनेशिया और मलेशिया के लोग भी शामिल थे। अधिकारियों ने बताया कि कुछ लोगों के कोरोना वायरस से संपर्क में आने की आशंका के बाद इलाके को सील कर दिया गया है।
 
उन्होंने बताया कि बड़ी संख्या में लोगों में बीमारी के लक्षण दिखने की रिपोर्टों के बाद दिल्ली पुलिस और सीआरपीएफ के अफसरों और मेडिकल टीमें रविवार रात इलाके में गई थी।

200 लोगों अस्पताल में भर्ती करवाकर उनके नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं। इनकी रिपोर्ट मंगलवार तक आने की उम्मीद है। मुस्लिम संगठन तबलीग-ए-जमात के मुख्यालय और घरों समेत पूरे इलाके को काट दिया गया है।
 
अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली पुलिस–सीआरपीएफ की मेडिकल टीमें लोगों की जांच कर रही हैं और उन्हें पृथक रखने के लिए निर्धारित अस्पतालों में भेज रही हैं। 
पिछले हफ्ते श्रीनगर में करीब 60 वर्षीय व्यक्तित की संक्रमण से मौत होने के बाद फिक्र होना शुरू हुई। इस शख्स ने इज्तिमे में शिरकत की थी। अधिकारियों के मुताबिक, संगठन के मुख्यालय में बड़ी सभा के बाद छोटी-छोटी मंडलियों में भी लोग बैठते हैं।
 
संगठन का मुख्यालय निजामुद्दीन थाने के बराबर में है और ख्वाजा मुईनुद्दीन औलिया की दरगाह के पास है। इस इज्तिमे में सऊदी अरब, इंडोनेशिया, दुबई, उज्बेकिस्तान और मलेशिया सहित कई देशों के प्रचारकों ने हिस्सा लिया। भारत के अलग-अलग हिस्सों से आए करीब 600 लोगों ने भी इसमें हिस्सा लिया।

अधिकारियों ने बताया कि भारतीय नागरिक तो ट्रेनों और उड़ानों के जरिए वापस चले गए। देश के कई हिस्सों में सामने आए कुछ मामलों के संपर्क खंगाले गए तो उनका संबंध इस इज्तिमे से निकाला। लोगों को पृथक केंद्र में भेजने के लिए बसों को तैयार रखा गया है।
 
 
इज्तिमे में शिरकत करने वालों के लिए रहने की व्यवस्था जिन हॉस्टलों की जाती थी, उन्हें भी सील कर दिया गया है। इस मामले में केजरीवाल सरकार ने दिल्ली पुलिस से निजामुद्दीन मरकज के मौलाना के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने को कहा है।
 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए 24 मार्च को देशव्यापी बंद का ऐलान किया था। दिल्ली पुलिस इलाके में नजर रखने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर रही है।
 Photo courtesy: Facebook