छोटे करदाताओं को राहत, अमीरों पर अधिभार

नई दिल्ली| पुनः संशोधित सोमवार, 29 फ़रवरी 2016 (15:36 IST)
नई दिल्ली। वित्तमंत्री अरुण जेटली के 2016-17 के बजट में जहां एक तरफ छोटे आयकरदाताओं को राहत दी गई, वहीं 1 करोड़ रुपए से अधिक की कमाई करने वालों पर अधिभार 3 प्रतिशत कर बढ़ाने का प्रस्ताव किया गया है। साथ ही यात्री कारों पर अलग-अलग दर से प्रदूषण उपकर तथा देश में कालाधन रखने वालों के लिए 45 प्रतिशत कर एवं जुर्माने के साथ एकबारगी अनुपालन खिड़की का प्रस्ताव किया गया है।
 
अपना तीसरा बजट पेश करते हुए वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कृषि क्षेत्र में सुधार के लिए सभी करयोग्य सेवाओं पर 0.5 प्रतिशत ‘कृषि कल्याण’ उपकर लगाने का भी प्रस्ताव किया। साथ ही शीतगृह, रेफ्रिजरेटेड कंटेनर्स तथा अन्य वस्तुओं पर परियोजना आयात पर शुल्क में छूट की घोषणा की।
 
सिगरेट और तम्बाकू उत्पाद अब और भी महंगे होंगे। इस पर उत्पाद शुल्क 10 से 15 प्रतिशत बढ़ाया गया है।
 
वित्तमंत्री के कर प्रस्तावों से जहां प्रत्यक्ष कर मद में 1,060 करोड़ रुपए का राजस्व नुकसान होगा, वहीं अप्रत्यक्ष कर प्रस्ताव से 20,670 करोड़ रुपए का अतिरिक्त राजस्व प्राप्त होगा। कुल मिलाकर प्रस्तावों से 19,610 करोड़ रुपए की शुद्ध राजस्व प्राप्ति होगी। (भाषा)



और भी पढ़ें :