Assam Assembly Election 2021: छिटपुट घटनाओं को छोड़कर तीसरे व अंतिम चरण में असम में 80 प्रतिशत से ज्यादा मतदान

Last Updated: मंगलवार, 6 अप्रैल 2021 (23:55 IST)
गुवाहाटी। असम में 12 जिलों के 40 विधानसभा क्षेत्रों में कड़ी सुरक्षा के बीच मंगलवार को अंतिम चरण का मतदान हुआ। अधिकारियों के अनुसार हिंसा और गड़बड़ी की छिटपुट घटनाओं को छोड़कर मतदान कुल मिलाकर शांतिपूर्ण रहा। एक अधिकारी ने बताया कि गोलकगंज के दिघलतरी प्राथमिक विद्यालय के एक मतदान केंद्र पर कुछ मुद्दों को लेकर 2 समूहों के बीच झड़प हो गई। के तीसरे और अंतिम चरण में 40 सीटों पर मंगलवार को करीब 82.33 प्रतिशत मतदान हुआ।
ALSO READ:
बंगाल में TMC नेता के घर से मिली 4 EVM, चुनाव अधिकारी निलंबित

उन्होंने कहा कि स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया और हवा में गोलीबारी की। इस घटना में कोई घायल नहीं हुआ तथा संबंधित मतदान केंद्र पर कुछ समय के लिए मतदान रोक दिया गया और कुछ देर बाद फिर से यह शुरू हो गया। बिलासीपारा पश्चिम विधानसभा क्षेत्र के गुटीपारा में एक मतदान केंद्र पर कुछ लोगों ने मुफ्त मास्क बांटने को लेकर सुरक्षाकर्मियों पर हमला किया। हमलावरों ने मतदान केंद्र पर पथराव भी किया तो पुलिस ने लाठीचार्ज किया। अधिकारियों के अनुसार मतदान केंद्र पर लगभग आधे घंटे तक मतदान बाधित रहा।


बल के एक अधिकारी के अनुसार बोंगाईगांव के एक मतदान केंद्र में भारी भीड़ के पहुंचने पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इसी क्षेत्र में एक अन्य मतदान केंद्र पर उस समय हंगामा होने लगा जब पीठासीन अधिकारी एक दिव्यांग व्यक्ति को वोट डालने में मदद करने के लिए चले गए। एक चुनाव अधिकारी ने कहा कि पुलिस ने तुरंत स्थिति पर नियंत्रण पा लिया।
एक अन्य घटना में पुलिस ने गुवाहाटी के कामरूप एकेडमी हायर सेकंडरी स्कूल में एक मतदान केंद्र पर कम से कम 2 लोगों को उस समय हिरासत में लिया, जब वे कथित तौर पर भाजपा के पर्चे बांट रहे थे। अधिकारियों ने बताया कि विभिन्न निर्वाचन क्षेत्रों से करीब 10 लोगों को हिरासत में लिया गया। कई मतदान केंद्रों पर ईवीएम के खराब होने की सूचना मिली थी और उन मशीनों को बदलने के बाद वहां फिर मतदान शुरू हुआ।
मास्क पहने मतदाता विभिन्न मतदान केंद्रों के बाहर पंक्तियों में खड़े थे। आपस में दूरी बनाते हुए मतदाता यहां विशेष निशान पर खड़े होकर मतदान की अपनी बारी की प्रतीक्षा कर रहे थे। जिन मतदाताओं के पास मास्क नहीं थे, उन्हें मास्क दिया जा रहा था। विभिन्न मतदान केंद्रों पर पहले मतदाताओं को पौधों और वरिष्ठ नागरिकों का 'गमोसा' (पारंपरिक असमिया गमछा) के साथ अभिनंदन किया गया।

भाजपा के मंत्रियों हिमंत बिस्व सरमा, चंद्रमोहन पटवारी, सिद्धार्थ भट्टाचार्य और फणीभूषण चौधरी ने सुबह अपने-अपने मतदान केंद्रों पर वोट डाले। वे सभी इस चरण में चुनावी मैदान में हैं। बीपीएफ मंत्रियों चंदन ब्रह्मा और प्रमिला रानी ब्रह्मा के अलावा बीपीएल प्रमुख हगराम मोहिलरी, कांग्रेस नेता रतुल पटवारी और अभिनेता कपिल बोरा ने भी वोट डाले।
वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांग मतदाताओं की सुविधा के लिए व्हीलचेयर और ई-रिक्शा की व्यवस्था की गई थी। मॉडल मतदान केंद्रों में बच्चों के खेलने का स्थान, बैठने की जगह, सेल्फी जोन आदि बनाए गए थे। कुछ मतदान केंद्रों को बोतलों, प्लास्टिक आदि के साथ बनाए सजाया गया था। कुछ मतदान केंद्रों को राज्य की बहुसांस्कृतिक विविधता को दर्शाते हुए सजाया गया था। (भाषा)



और भी पढ़ें :