बात एक रात की...

WDWD
उसने आगे बढ़कर मुझसे कोई बात नहीं की, जो भी सवाल मैंने किए वह सिर्फ उसका जवाब देता गया। यहाँ तक कि मुझे सामने से कहना पड़ा कि मेरा नाम निशा है और मैं इंदौर की रहने वाली हूँ। रात को ही उसे रास्ते में मोबाइल आया कि जिन लोगों से वह मिलने के लिए जा रहा है उन्हें इंदौर आने में कुछ वक्त लगेगा। अत: वह 4-6 घंटे और इंतजार कर ले।

करीब-करीब सुबह छ: बजे मैं अपने घर पहुँच गई। मैं इस मददगार को अपने परिवार से मिलवाना चाहती थी लेकिन अफसोस घर पर ताला लगा था। मेरे दिमाग में यह बात तो बिल्कुल ही नहीं रही कि मम्मी-पापा पाँच दिनों के लिए एक रिश्तेदार की बेटी की शादी में भोपाल गए हुए हैं। अब इस शख्स को घर के अंदर ले जाऊँ तो भी कैसे? वह स्थिति समझ गया और जाने की तैयारी करने लगा।

लेकिन मैंने हिम्मत जुटाकर उससे कॉफी पीने का आग्रह किया जिसके लिए वह राजी हो गया। हम घर के अंदर गए। मैं उसको गेस्ट रूम में बैठाकर कॉफी बनाने चली गई। कॉफी पीने के बाद मैंने उससे कहा कि आप आज हमारे मेहमान हैं। वैसे भी आपको ग्वालियर जाने की जल्दी नहीं है... बुरा न मानें तो जाते-जाते हमारा यह शहर ही देखकर जाइए।

  यह पत्र जब तुम्हारे पास पहुँचेगा तब तक मैं इस दुनिया को अलविदा कह चुका होउँगा। मैंने तुम्हारी दी हुई गणेशजी की मूर्ति उसी अनाथाश्रम के मंदिर में रख दी है जहाँ पर मैं पला-बढ़ा था।      
अचानक मेरे प्रस्ताव से उसकी आँखें चार हो गई। एक तो वह पहले से ही डरा हुआ था क्योंकि जब से वह मेरे घर में दाखिल हुआ था तब से अपने हाथ में पहनी हुई घड़ी को बार बार देख रहा था शायद वह जल्दी मुझसे छुटकारा पाना चाहता था।

परंतु वह मेरी बात को नहीं टाल सका। हँसकर बोला चलिए इसी बहाने आपका शहर देख लेंगे। हम दोनों तैयार होकर निकल पड़े। इंदौर की 2-3 ख्यात जगह दिखाने के बाद आखिर में हम खजराना मंदिर पहुँचे।

उस दिन मंदिर के ट्रस्ट के द्वारा एक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया था। मैंने पहले भी अनेक बार रक्त दान किया और इसमें मुझे बहुत सुकून मिलता है और मैंने यहाँ भी खून देने का निर्णय लिया और दीपक को भी इसके लिए प्रेरित किया। लेकिन उसने इसमें रूचि नहीं दिखाई। उसके इस निर्णय पर मुझे आश्चर्यमिश्रित दुख हुआ।

दर्शन करने के बाद हम वापस आए। मैंने बीच रास्ते में कुछ सामान खरीदा उसको उपहार के तौर पर गणेशजी की एक छोटी प्रतिमा दी। अब हमारी जुदाई का समय आ गया था। मैंने उसकी सहायता के लिए आभार व्यक्त करते हुए उसे विदा किया। पल भर में ही उसकी कार मेरी नजरो से ओझल हो गई। लेकिन जल्दबाजी और घबराहट में उसका कॉन्टैक्ट नंबर लेना भूल गई या वह ग्वालियर में कहाँ रहता है यह भी नहीं जान पाई।

खैर इस बात को तीन महीने हो गए। मैं अपनी जिंदगी में व्यस्त हो गई। एक दिन दोपहर को अचानक ही मेरे घर की डोरबेल बजी... डाकिया डाक छोड़कर गया था। मैंने उसको उठाया। वह किसी अनाथाश्रम से आया था। मैं उसे पढ़ने लगी।

'' प्रिय निशा'

मुझे मालूम है कि तुम मुझसे नाराज होगी..तुम्हारा गुस्सा होना भी लाजमी भी है...क्योंकि मैंने एक भी बार तुमसे से बात नहीं की। तुमसे मुलाकात के बाद दिल करता था कि निशा का दीपक बनकर जीवनभर जगमगाता रहूँ लेकिन इस दीपक की लौ में इतनी ताकत नहीं थी कि वह जीवनभर तुम्हारा साथ दे सकती। जीवन में हम जो चाहते हैं वह हमें कभी नहीं मिलता और हमने जिसके बारे में कल्पना भी नहीं कि होती वह अचानक हमारी नजरों के सामने आकर खड़ा हो जाता है।

मुझे ब्लड कैंसर था और इसकी जानकारी भी डॉक्टरों को अंतिम स्टेज पर आकर हुई थी। इसीलिए उस दिन मैं रक्तदान नहीं कर सका था।

डॉक्टरों के अनुसार मेरी जिंदगी के सिर्फ तीन महीने बचे हैं इसलिए ही जीवन के अंतिम दिनों में भगवान की खोज के लिए निकल पड़ा था। ओंकारेश्वर से लेकर खजराना तक इस खोज में तुमने मेरा साथ दिया।

यह पत्र जब तुम्हारे पास पहुँचेगा तब तक मैं इस दुनिया को अलविदा कह चुका होउँगा। मैंने तुम्हारी दी हुई गणेशजी की मूर्ति उसी अनाथाश्रम के मंदिर में रख दी है जहाँ पर मैं पला-बढ़ा था।

- दीपक

WD|
खत पढ़ने के बाद मेरे पैरों तले से जमीन खिसक गई। मेरे आँसू ठहरने का नाम नहीं ले रहे थे। अचानक ही आँखों के सामने अँधेरा छा गया जब आँख खुली तो मैं एक बिस्तर पर लेटी थी। सामने मम्मी और पापा एक डॉक्टर के साथ चिंतित मुद्रा में खड़े थे।



और भी पढ़ें :