बुरे काम का बुरा नतीजा...

यहूदी संत सिम्शा बुनेन की सीख

WD|

तब सिम्शा ने हंसकर उससे कहा, 'भाई, तुम खेल में मेरी दो गलत चालों को नजरअंदाज करने को राजी नहीं हो लेकिन अपनी जिंदगी में गलत चाल चलकर चाहते हो कि खुदा उन्हें हमेशा नजरअंदाज करता रहे लेकिन ध्यान रखो गलत चालों का अंजाम कभी अच्छा नहीं होता, इसलिए यदि हमें दुनिया में रहना है तो बुरे कर्मों का त्याग कर स्वयं को अच्छे कामों में ही लगाना चाहिए।'

शुरू में उस व्यक्ति ने संत की बातों पर तवज्जो नहीं दी लेकिन जब खेल खत्म होने के बाद अपने घर गया तो उसे महसूस हुआ कि संत ठीक कह रहे थे और उसने गलत काम करना छोड़ दिया




और भी पढ़ें :