UP : खाकी पर गिरी गाज, उन्‍नाव में पथराव मामले में SHO समेत 4 सस्‍पेंड

Last Updated: शुक्रवार, 18 जून 2021 (01:29 IST)
हमें फॉलो करें
(उत्तर प्रदेश)। जिले में उन्नाव-कानपुर मार्ग पर एक हादसे में मोटरसाइकल सवार 2 युवकों की मौत से नाराज ग्रामीणों ने अकरमपुर इलाके में पुलिस पर किया। इस घटना में 12 पुलिसकर्मी घायल हो गए।
पुलिस ने बुधवार को हुई इस घटना के सिलसिले में नामजद तथा 250 अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर उनमें से 43 लोगों को गिरफ्तार किया है।
घटना की जो तस्वीरें सामने आई हैं, उनमें पुलिसकर्मी अपने सिर पर स्टूल तथा अन्य चीजें रखकर खुद को बचाते नजर आ रहे हैं। पुलिस महानिदेशक ने इस मामले में स्थानीय थानाध्यक्ष समेत चार पुलिसकर्मियों को निलंबित किया है और पुलिस अधीक्षक से स्पष्टीकरण मांगा है।

उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस घटना का संज्ञान लेते हुए एक ट्वीट में कहा कि सभी जिलों में पुलिस को दंगे और बलवे की स्थिति अपने बचाव के लिए पर्याप्त उपकरण और साजो-सामान दिया गया है। उन्नाव में बुधवार को हुए पथराव के दौरान पुलिसबल उन सुरक्षा उपकरणों से लैस नहीं था इसलिए पुलिस महानिदेशक ने जिला पुलिस अधीक्षक से स्पष्टीकरण मांगा है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार मंगलवार को शहर कोतवाली के देवीखेड़ा गांव निवासी राजेश (32) की मोटरसाइकल को एक कार ने टक्कर मार दी थी। हादसे में राजेश व मोटरसाइकल पर पीछे बैठे उसके दोस्त विपिन (25) की मौत हो गई थी।
ALSO READ:

मेरठ में आफत की बारिश, अंतिम संस्कार में भी बनी बाधा
पुलिस अधीक्षक आंनद कुलकर्णी ने गुरुवार को बताया कि दोनों युवकों के शव पोस्टमार्टम के बाद अंतिम संस्कार के लिए मंगलवार रात परिजनों को सौंप दिए गए थे। लेकिन उनका अंतिम संस्कार नहीं करके परिजनों ने शव लेकर ग्रामीणों की मदद से बुधवार को उन्नाव-कानपुर मार्ग पर रास्ता जाम कर दिया था। ग्रामीणों की मांग थी कि मृत युवकों के परिजनों को मुआवजा दिया जाए।
कुलकर्णी ने बताया कि रास्ता जाम कर रहे ग्रामीणों को समझाने पहुंचे उप जिलाधिकारी और पुलिसबल पर पथराव किया गया, जिसमें 12 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। सूचना के बाद घटनास्थल पर पहुंची कई थानों की पुलिस ने उपद्रव करने वालों पर लाठीचार्ज कर उन्हें खदेड़ा।

वहीं इस मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) लखनऊ ने ट्वीट किया कि उपद्रव की घटना में शिथिलता,अक्षमता एवं गैर पेशेवराना रवैए का प्रदर्शन करने पर कोतवाली सदर के प्रभारी निरीक्षक दिनेश मिश्रा, एक दारोगा तथा दो आरक्षियों को निलंबित किया गया है। साथ ही पुलिस क्षेत्राधिकारी (नगर) से स्पष्टीकरण मांगा गया है। प्रकरण की जांच अपर पुलिस अधीक्षक रायबरेली को दी गई है।(भाषा)



और भी पढ़ें :