इरफान पठान ने इस तरह किया शमी का बचाव, औवेसी ने कहा इस कारण बोले गए अपशब्द

Last Updated: मंगलवार, 26 अक्टूबर 2021 (08:28 IST)
विकेट निकालने की काबिलियत रखने वाले भारतीय गेंदबाज मोहम्मद शमी पाकिस्तान के खिलाफ टी-20 विश्कप मैच में कल पूरी तरह बेअसर साबित हुए।

मोहम्मद शमी को विकेट तो मिला ही नहीं उल्टे उनको पाक सलामी बल्लेबाजों ने मिलकर टारगेट किया। शमी ने पाकिस्तान के खिलाफ ही साल 2012 के वनडे में किफायती गेंदबाजी की थी जिसके कारण उनको टीम में जगह मिली थी।

लेकिन वह शमी कल कही खो गया था। शमी ने अपने 3.5 ओवर में 11.21 की रन गति से 43 रन लुटाए। अपने स्पैल में वह सिर्फ 5 डॉट गेंदे डाल पाए। उनकी गेंदो पर 6 चौके और 1 छक्का पड़ा।

ऐसा माना जा रहा है कि शमी के इस बुरे प्रदर्शन के कारण उनको ऑनलाइन ट्रोलिंग का सामना करना पड़ा। के एक ट्वीट की मानें तो मोहम्मद शमी को पाकिस्तान जाने की सलाह भी दी।
इरफान पठान ने अपने ट्वीट में लिखा कि मैं भी उन मैचों का हिस्सा था जिनमें पाकिस्तान की जीत हुई लेकिन कभी भी मुझे किसी ने पाकिस्तान जाने की सलाह नहीं दी। यह सिर्फ कुछ साल पहले का भारत है। यह बकवास बंद होनी चाहिए।

इरफान पठान के अलावा और भी कुछ क्रिकेटर्स और विशेषज्ञों ने मोहम्मद शमी का बचाव किया। कमेंटेटर हर्षा भोगले ने कहा कि जो लोग मोहम्मद शमी के बारे में घटिया बातें कर रहे हैं। उनसे मेरी एक विनती है। आप क्रिकेट ना देखें। आपकी कमी महसूस ना होगी।
पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने कहा कि मोहम्मद शमी भारत के लिए 8 साल से क्रिकेट खेल रहे हैं। उनके प्रदर्शन को एक खराब मैच से नहीं आंका जाना चाहिए। मैं फैंस से गुजारिश करता हूं की शमी को समर्थन दें। युजवेंद्र चहल ने भी मोहम्मद शमी का साथ दिया।
इसके अलावा वीरेंद्र सहवाग ने मोहम्मद शमी को एक चैंपियन गेंदबाज बताया और कहा कि सभी को इस समय उनके साथ खड़े रहना चाहिए। जर्सी पहनने के बाद दिल में बस इंडिया रहता है।

हालांकि क्रिकेटर और कमेंटेटर के बयान तो इस मुद्दे पर लाजमी थे। लेकिन AIMIM के मुखिया असदुद्दीन औवेसी ने भी इस गर्व तवे पर अपनी राजनैतिक रोटी सेंकनी चाही।
औवेसी ने मीडिया में एक बयान दिया कि क्रिकेट के खेल में 11 खिलाड़ी होते हैं और मोहम्मद शमी को सिर्फ इसलिए निशाना बनाया जा रहा है क्योंकि वह एक मुसलमान है। क्रिकेट के खेल में हार या जीत होती है। टीम में 11 खिलाड़ी होते हैं लेकिन सिर्फ शमी को निशाना बनाना यह साबित करता है कि मुसलमानो के खिलाफ कट्टरता और नफरत कितनी बढ़ गई है। क्या भाजपा इसकी निंदा करेगी। (वेबदुनिया डेस्क)



और भी पढ़ें :