देवी पार्वती दक्षिण भारत में 'अम्मन'

mariamman
Last Updated: मंगलवार, 19 नवंबर 2019 (18:48 IST)
- आर. हरिशंकर

पार्वती देवी को में अम्मन के नाम से भी जाना जाता है जिन्हें 'अम्मा" नाम से पुकारा जाता है, जो हिंदू देवी हैं और जिनमें श्रेष्ठ दैवीय ताकत और शक्ति है। हिंदू धर्म की सबसे महत्वपूर्ण देवियों में से एक हैं वह सौम्य देवी हैं।

वह हिंदू धर्म में देवी मां हैं और उनकी कई लोकप्रिय छवियां हैं। लक्ष्मी और सरस्वती के साथ वह हिन्दू देवियों की त्रिदेवों की त्रिदेवी को पूर्ण करती हैं। पार्वती भगवान शिव की पत्नी हैं। वह भगवान विष्णु की बहन और भगवान विनायक एवं मुरुगा की माता है।

अम्मान को कुछ स्थानों पर "ग्राम देवता" के रूप में भी पूजा जाता है और उनकी पूजा गैर-ब्राह्मण पुजारियों द्वारा की जाती है या ब्राह्मण पुजारियों द्वारा सम्यपुरम् मरियम्मन मंदिर जैसे बड़े मंदिरों में भी की जाती है। उसे आमतौर पर एक सजे हुए रथ में जुलूस में ले जाया जाता है।

मरियम्मन एक तमिल देवी हैं जिनकी पूजा प्राचीन काल से प्रचलित थी। वह मुख्य तमिल देवी मां हैं, और मुख्य रूप से तमिलनाडु के ग्रामीण इलाकों में लोकप्रिय हैं। उत्तर भारत में, उन्हें शीतलादेवी के रूप में पूजा जाता है और पूर्वी भारत में, उन्हें मनसा देवी के रूप में पूजा जाता है।

आमतौर पर, बड़ी संख्या में पूरे भारत में हैं और कुछ विदेश में भी पाए जाते हैं। अंगला परमेश्वरी अम्मन तमिलनाडु के गांवों में बहुत प्रसिद्ध है और तमिलनाडु के अधिकांश भक्तों के लिए कुला देवम (कुलदेवी) भी है।
एक सबसे लोकप्रिय अंगला परमेश्वरी देवी मंदिर इरोड में स्थित है और यह अम्मन "कुला देवीम" है। यह मंदिर भक्तों की बीमारियों को ठीक करने, उनके जीवन में अच्छे परिणाम देने और अपने ईमानदार भक्तों को "मुक्ति" देने के लिए बहुत प्रसिद्ध है।

कुछ अम्मन मंदिरों में पूजा करने के तरीके गैर-वैदिक हैं और त्योहारों के मौके पर पोंगल और कूज़े जैसे प्रसाद भी बनाए जाते हैं। यहां आग जलाने की रस्में (द मिडी थिरुविझा) और मुंह या नाक छिदवाने जैसे अनुष्ठानों का भी पालन किया जाता है।
अम्मन के लिए एक विशेष महीना आदी है। वह वर्ष के इस समय बहुत शक्तिशाली हो जाती है, सभी बीमारियों का इलाज करती है और अपने भक्तों के जीवन में बहुत संभावनाएं लाती हैं। वह मुख्य रूप से चिकन पॉक्स और चेचक के उपचार के लिए जानी जाती है।

देवी पार्वती देवी, जिन्हें सती, अम्मन, दुर्गा, भवानी, भैरवी, चामुंडी, त्रिपुरसुंदरी, कामाक्षी, कमलाक्षी, कामेश्वरी, महिषासुरमर्दिनी, चंडिगा देवी, वरही देवी, आधि पराशक्ति, मारीमूर्ति, मरियम्मा, भुवनेश्‍वरी, परमेश्‍वरी, काली, अंबल, अन्नपूर्णा कई और नामों से पुकारा जाता है।

उन्हें जिस भी नाम से पुराकार जाता हो लेकिन देवी पार्वती की पूजा करने का परिणाम अनुकूल होगा। कई पारंपरिक कहानियों के आधार पर, कुछ मंदिरों में, वह स्वयं प्रकट हुई थीं। शक्तिवाद (शाक्यधर्म) के कई अनुयायी हैं, जिसमें वे विशेष रूप से देवी पार्वती की पूजा करते हैं। वे भक्त अम्मान के सभी त्योहारों में भाग लेंगे और देवी के कई मंदिरों के दर्शन करेंगे और उन्हें अपनी स्तुतियां अर्पित करेंगे। कुछ भक्त पदयात्रा के माध्यम से विशेष रूप से आदी महीने के दौरान अमन मंदिर जाते हैं।

देवी पार्वती, जो हमारी इच्छाओं को पूरा करती हैं, हमारे सपनों को पूरा करती हैं और हम सभी के लिए और इस दुनिया में सभी जीवित प्राणियों के लिए मां (अम्मा) है। आइए हम अपनी भलाई के लिए देवी मां से प्रार्थना करें और अपने मन में पूरी श्रद्धा के साथ उनका नाम जपें।



और भी पढ़ें :