रीवा कमिश्नर डॉ. भार्गव मीजल्स-रूबेला अभियान में राष्ट्रीय स्कॉच अवॉर्ड से सम्मानित

पुनः संशोधित मंगलवार, 14 जनवरी 2020 (23:30 IST)
रीवा। में के डॉ. अशोक कुमार भार्गव को उनके असाधारण योगदान, उत्कृष्ट कार्य निष्पादन, नेतृत्व क्षमता, प्रबंधकीय दक्षता, नवाचार एवं सकारात्मक पहल के लिए निजी क्षेत्र के देश के सर्वोच्च प्रतिष्ठित से सम्मानित किया गया।

प्रधानमंत्री आर्थिक सलाहकार परिषद भारत सरकार के चेयरमैन एवं विख्यात अर्थशास्त्री डॉ. बिबेक देवराय, सचिव जलशक्ति मंत्रालय भारत सरकार यूपी सिंह तथा स्कॉच फाउंडेशन के चेयरमैन समीर कोचर ने नई दिल्ली के हेबीटेट सेंटर में डॉ. भार्गव को यह अवॉर्ड प्रदान किया। स्कॉच अवॉर्ड भारत में बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के विस्तार, प्रशासनिक समन्वयता और जिले, संभाग व राज्य में किए गए नवाचारों के लिए प्रदान किया जाता है।

इस पुरस्कार में देश के प्रतिष्ठित अर्थशास्त्री, समाजशास्त्री एवं योजना निर्माण में शामिल व्यक्तियों द्वारा अवॉर्ड की चयन प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जाती है, जो यह तय करते हैं कि किया गया नवाचार राष्ट्रीय मापदण्डों पर खरा उतरता है या नहीं। रीवा संभाग को पुन: यह गौरव प्राप्त हुआ है कि मीजल्स एवं रूबेला अभियान में राज्य में प्रथम स्थान प्राप्त करने के साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर भी पहचान प्राप्त हुई है। इसके पहले माह सितम्बर 2019 में दस्तक अभियान के सफल क्रियान्वयन में भी डॉ. भार्गव को राष्ट्रीय स्कॉच अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था।

डॉ. भार्गव ने इस उपलब्धि के लिए संभाग के चारों जिलों के कलेक्टर, सीईओ जिला पंचायत, नगर निगम के अधिकारियों, नगरीय निकाय के सीएमओ, सीईओ जनपद पंचायत, सीएमएचओ, स्वास्थ्य विभाग, महिला बाल विकास विभाग, जेल विभाग, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, एएनएम, आशा कार्यकर्ता, प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया तथा अन्य व्यक्तियों जिन्होंने इस अभियान में प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से योगदान दिया
सभी के प्रति हार्दिक कृतज्ञता व्यक्त की है।

उन्होंने यह अवॉर्ड रीवा संभाग के समस्त नौनिहालों और होनहार बच्चों के स्वर्णिम भविष्य को समर्पित किया है क्योंकि बच्चे ही राष्ट्र की असली दौलत हैं। अवॉर्ड को प्राप्त करने में संभागीय उप संचालक डॉ. एनपी पाठक एवं डॉ. दीपक पाण्डेय, सलाहकार पोषण एवं स्वास्थ्य की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

उल्लेखनीय है कि इस अभियान के अंतर्गत रीवा संभाग प्रदेश में पहले स्थान पर रहा था। संभाग के चारों जिलों में लक्षित 9 माह से 15 वर्ष तक की आयु के 23 लाख 69 हजार बच्चों का शत-प्रतिशत टीकाकरण कराया गया। कमिश्नर डॉ. भार्गव ने 21 जनवरी 2019 को संभागीय कमिश्नर के रूप में अपना पदभार ग्रहण किया था। उस दौरान मीजल्स-रूबेला अभियान के तहत 9 माह से 15 वर्ष तक की आयु के सभी बच्चों का टीकाकरण किया जा रहा था।

डॉ. भार्गव ने बच्चों के स्वास्थ्य से संबंधित इस महत्वपूर्ण अभियान की समीक्षा कर शत-प्रतिशत टीकाकरण करने के प्रयास शुरू किए। गत वर्ष इस अभियान में रीवा संभाग ने मात्र 20 प्रतिशत उपलब्धि हासिल की थी। कमिश्नर डॉ. भार्गव ने समय-समय पर बैठकें आयोजित कर अभियान की समीक्षा की और अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। कमिश्नर डॉ. भार्गव ने स्वयं स्कूलों, आंगनवाड़ी केन्द्रों, छात्रावासों आदि स्थानों में पहुंचकर अपने समक्ष बच्चों का टीकाकरण कराया।

उन्होंने ऐसे स्थानों पर पहुंचकर बच्चों को टीकाकरण कराया जहां किसी की नजर नहीं पड़ी थी। उन्होंने निर्माणाधीन स्थलों पर पहुंचकर विभिन्न राज्यों से आए मजदूरों के बच्चों का टीकाकरण कराया। उन्होंने झुग्गी बस्तियों, जेल में बंदी महिलाओं, दस्यु प्रभावित क्षेत्रों, नि:शक्त छात्रावासों आदि स्थानों में पहुंचकर बच्चों का अपने समक्ष टीकाकरण कराया। डॉ. भार्गव ने रीवा, सीधी, सिंगरौली एवं सतना जिले के कई स्कूलों में भ्रमण किया और टीकाकरण के लिए समझाइश दी।

कमिश्नर डॉ. भार्गव द्वारा स्वयं मीजल्स-रूबेला अभियान के संबंध में आकाशवाणी पर परिचर्चा का प्रसारण भी किया गया। इस प्रकार कमिश्नर डॉ. भार्गव के निरंतर अथक प्रयास से रीवा संभाग को मीजल्स-रूबेला अभियान में शत-प्रतिशत उपलब्धि हासिल हुई।

मीजल्स-रूबेला वायरस से फैलने वाली खतरनाक जानलेवा बीमारी है। मीजल्स रोग के कारण बच्चों में विकलांगता या उनकी असमय मृत्यु हो सकती है। इसी तरह रूबेला वायरस बच्चों एवं स्त्रियों में संक्रमण पैदा करता है जो बच्चों को जन्म से ही विकलांग बना सकता है। इन रोगों से बचने का टीकाकरण ही एकमात्र उपाय है।

विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®
 

और भी पढ़ें :