राहुल को महँगाई पर झेलना पड़ा विरोध

लखनऊ| भाषा|
हमें फॉलो करें
FILE
प्रदेश की राजधानी लखऊ के छात्रों से संवाद स्थापित करने पहुँचे कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव राहुल गाँधी को मंगलवार को और के सवाल पर ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोशिएसन (आइसा) और इंकलाबी नवजवान सभा के कार्यकर्ताओं की उग्र नारेबाजी का सामना करना पड़ा।


लखनऊ रेलवे स्टेशन के सामने स्थित रवीन्द्रालय सभागार में छात्रों से संवाद के बाद राहुल गाँधी का काफिला जैसे ही सभागार परिसर से बाहर निकला, वहाँ झंडे-बैनर लेकर पहले से जुटे वामपंथी छात्र संगठनों के कार्यकर्ताओं ने भ्रष्टाचार और बढ़ती महँगाई के में जोरदार नारेबाजी शुरू कर दी और उनके काफिले को रोकना चाहा। मगर मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियो ने उन्हें वहाँ खदेड़ दिया।
आइसा के प्रभारी सुधांशु बाजपेयी और इंकलाबी नवजवान सभा के प्रदेश अध्यक्ष बालमुकुंद धुरिया के नेतृत्व में वामपंथी छात्र संगठनों के कार्यकर्ताओ ने ‘कांग्रेस के युवराज महँगाई और भ्रष्टाचार पर रोक लगाओ’ के नारे लगाए और यह भी कहा कि छात्रों के साथ संवाद का ड्रामा बंद करके उनके लिए रोजी रोजगार की व्यवस्था करो।

बाजपेयी एवं धुरिया ने बाद में ‘भाषा’ से कहा कि उनका विरोध केन्द्र सरकार द्वारा 2जी स्पेक्ट्रम, राष्ट्रमंडल खेलों और आदर्श सोसाइटी के घोटालेबाजों को केन्द्र सरकार की तरफ से मिल रहे संरक्षण पर केन्द्रित था। केन्द्र घोटालेबाजों को संरक्षण देना बंद करे और महँगाई पर लगाम लगाए तथा कांग्रेस महासचिव राहुल गाँधी छात्रों से संवाद कायम करने का नाटक बंद करके उनके लिए रोजी रोजगार की व्यवस्था किए जाने की तरफ ध्यान दें।

कांग्रेस महासचिव को उन छात्रों की नारेबाजी से भी दो-चार होना पड़ा जो उनके संवाद सत्र में शामिल होना चाहते थे। मगर किन्हीं कारणों से सभागार में प्रवेश नहीं पा सके। हालाँकि उनके नारे कांग्रेस और राहुल के पक्ष में तथा पुलिस के विरोध में थे।

युवा राजनीति में आएँ : राहुल ने आगरा में भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन द्वारा युवाओं से साक्षात्कार कार्यक्रम में एक बार फिर इस बात को दोहराया है कि युवाओं को सक्रिय राजनीत में ज्यादा से ज्यादा आना होगा तभी देश में क्रांतिकारी परिवर्तन हो सकेगा। हालाँकि युवाओं द्वारा पूछे गए महँगाई और भ्रष्टाचार संबंधित सवालों पर वे मौन ही रहे।
11 युवक गिरफ्तार : राहुल के इलाहाबाद दौरे के दौरान सोमवार को वहाँ उनके काफिले को जबरन रोकने की कोशिश के आरोप में स्थानीय पुलिस ने 11 युवकों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस महानिरीक्षक (कानून एवं व्यवस्था) एपी माहेश्वरी ने मंगलवार को बताया कि राहुल के इलाहाबाद दौरे के दौरान उनकी सुरक्षा व्यवस्था में हुई कथित चूक के मामले में प्रदेश पुलिस के सुरक्षा प्रकोष्ठ की तरफ से जाँच की जा रही है।
सुरक्षा में खामी : राहुल गाँधी की इलाहाबाद यात्रा के दौरान सुरक्षा खामी का मुद्दा केन्द्र संभवत: जल्द ही उत्तरप्रदेश सरकार के समक्ष उठाएगा। आरंभिक खबरों से पता चलता है कि स्थानीय पुलिस उन प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने में नाकाम रही, जिन्होंने राहुल की कार रोकने की कोशिश की थी।

गृह मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक प्रथम दृष्टया लगता है कि राहुल की यात्रा के मार्ग पर लगाए गए स्थानीय पुलिसकर्मी समाजवादी युवजन सभा के कार्यकर्ताओं को नियंत्रित करने में विफल रहे, जिन्होंने राहुल की कार रोकने की कोशिश की और काले झंडे लहराए। (भाषा)


सम्बंधित जानकारी


और भी पढ़ें :