कुंभ में इस तरीके से करें स्नान, नहीं तो जाना होगा व्यर्थ

अक्सर लोग तीर्थ या कुंभ मेले में विशेष दिन जब स्नान करने जाते हैं तो बस दो चार डुबकी लगा कर आ जाते हैं। लेकिन ऐसा तो आप किसी भी नदी में कर सकते हैं। यह स्नान तो साधारण ही हुआ। नदी के पास रहने वाले लोग ऐसा स्नान रोज ही करते हैं। तब क्या है तीर्थ और कुंभ में स्नान करने के जिससे स्नान का पूर्ण लाभ मिले?
क्यों करते हैं स्नान?
हमारे शरीर में 9 छिद्र होते हैं उन छिद्रों को साफ-सुधरा बनाने रखने से जहां मन पवित्र रहता है वहीं शरीर पूर्णत: शुद्ध बना रहकर निरोगी रहता है। मलपूर्ण शरीर शुद्ध तीर्थ में स्नान करने से शुद्ध होता है। इस प्रकार दृष्टफल-शरीर की स्वच्छता, अदृष्टफल-पापनाश तथा पुण्य की प्राप्ति, यह दोनों प्रकार के फल मिलते हैं।


स्नान में निषिद्ध कार्य- नदी के जल में वस्त्र नहीं निचोड़ना चाहिए। जल में मल-मूत्र त्यागना और थूकना नदी का पाप माना गया है। शोचकाल वस्त्र पहनकर तीर्थ में स्नान करना निषिद्ध है। तेल लगाकर तथा देह को मलमलकर नदी में नहाना मना है।

कहां का जल श्रेष्ठ?
कुएं से निकले जल से झरने का जल, झरने के जल से सरोवर का जल, सरोवर के जल से नदी का जल, नदी के जल से तीर्थ का जल और तीर्थ के जल से गंगाजी का जल अधिक श्रेष्ठ है। जहां धोबी का पाट रखा हो और कपड़ा धोते समय जहां तक छींटे पड़ते हो वहां तक का जलस्थान अपवित्र माना गया है। इसी तरह जहां शोचादि कर्म किया जाता हो उसके आसपास स्नान का जल अपवि‍त्र माना गया है।

स्नान के बाद क्या करें?
हिन्दू धर्म अनुसार स्नान और ध्यान का बहुत महत्व है। स्नान के पश्चात ध्यान, पूजा या जप आदि कार्य सम्पन्न किए जाते हैं।


प्रात: काल स्नान का महत्व
तीर्थ में प्रात: काल स्नान करने का महत्व है। प्रात: काल स्नान करने से दुष्ट विचार और आत्मा पास नहीं आते। रूप, तेज, बल पवित्रता, आयु, आरोग्य, निर्लोभता, दुःस्वप्न का नाश, तप और मेधा यह दस गुण प्रातः स्नान करने वाले को प्राप्त होते हैं। अतएव लक्ष्मी, पुष्टी व आरोग्य की वृद्धि चाहने वाले मनुष्य को सदेव स्नान करना चाहिए।
स्नान के प्रकार-
1.मंत्र स्नान- आपो हि ष्ठा 'इत्यादि मंत्रो से मार्जन करना
2.भोम स्नान- समस्त शरीर मे मिट्टी लगाना
3.अग्नि स्नान -भस्म लगाना
4.वायव्य स्नान- गाय के खुर की धुली लगाना
5.दिव्य स्नान- सूर्य किरण मे वर्षा के जल से स्नान
6.वरुण स्नान- जल मे डुबकी लगाकर स्नान करना
7.मानसिक स्नान -आत्म चिंतन करना


यह सात प्रकार के स्नान हैं। अशक्तजनों को असमर्थ होने पर सिर के नीचे ही स्नान करना चाहिए अथवा गीले कपड़े से शरीर को पोछना भी एक प्रकार का स्नान है।


की विधी क्या है?
उषा की लाली से पहले ही स्नान करना उत्तम माना गया है। इससे प्रजापत्य का फल प्राप्त होता है। नदी से दूर तट पर ही देह पर हाथ मलमलकर नहा ले, तब नदी में गोता लगाए। शास्त्रों में इसे मलापकर्षण स्नान कहा गया है। यह अमंत्रक होता है। यह स्नान स्वास्थ और शुचिता दोनों के लिए आवश्यक है। देह में मल रह जाने से शुचिता में कमी आ जाती है और रोम छिद्रों के न खुलने से स्वास्थ में भी अवरोध होता है। इसलिए मोटे कपड़े से प्रत्येक अंग को रगड़-रगड़ कर स्नान करना चाहिए।

निवीत होकर बेसन आदी से यज्ञोपवीत भी स्वच्छ कर लें। इसके बाद शिखा बांधकर दोनों हाथों में पवित्री पहनकर आचमन आदी से शुद्ध होकर दाहिने हाथ में जल लेकर शास्त्रानुसार संकल्प करें। संकल्प के पश्चात मंत्र पड़कर शरीर पर मिट्टी लगाएं। इसके पश्चात गंगाजी की उन उक्तियों को बोलें।


इसके पश्चात नाभी पर्यंत जल मे जाकर, जल की ऊपरी सतह हटाकर, कान औए नाक बंद कर प्रवाह की और या सूर्य की और मुख करके स्नान करें। तीन, पांच ,सात या बारह डुबकियां लगाए। डुबकी लगाने से पहले शिखा खोल लें।



और भी पढ़ें :