क्यों मनाते हैं रथ सप्तमी : यहां पढ़ें सूर्य पूजन और अर्घ्य का शुभ मुहूर्त


रथ सप्तमी माघ महीने के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनाया जाता है। आमतौर पर रथ सप्तमी का पर्व वसंत पंचमी के दूसरे या तीसरे दिन
मनाया जाता है।

इस पर्व को सूर्य जयंती, माघ जयंती या माघ सप्तमी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु के अवतार सूर्य देव की आराधना की जाती है।

क्यों मनाते हैं : रथ सप्तमी सूर्य भगवान के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। इसी दिन भगवान सूर्य ने पुरे विश्व को अपनी ऊर्जा से रोशन किया था। रथ सप्तमी के दिन भगवान सूर्य की आराधना करना बहुत शुभ माना जाता है।

रथ सप्तमी का महत्व
सूर्य देव को समर्पित इस पर्व के दिन प्रातःकाल सूर्योदय से पूर्व पवित्र जल में स्नान करना बहुत शुभ माना जाता है। अरुणोदय में रथ सप्तमी स्नान करना इस दिन की महत्वपूर्ण परम्पराओं में से एक है। अरुणोदय, सूर्योदय से कुछ समय पूर्व होता है, जिसमें स्नान करने से व्यक्ति स्वस्थ रहता है और सभी बीमारियों से बचा रहता है।

सूर्योदय के समय स्नान के बाद भगवान सूर्य को अर्घ्यदान करने से यश, सौभाग्य, ऐश्वर्य, समृ‍द्धि और वैभव का मार्ग खुलता है।

अर्घ्यदान विधि : खड़े होकर नमस्कार मुद्रा में एक कलश से भगवान सूर्य को धीरे-धीरे जल अर्पित किया जाता है। उसके बाद घी के दीपक और कपूर, धूप और लाल फूलों से सूर्य देव की पूजा की जाती है। पूजा के पश्चात् दान-पुण्य करके सूर्यदेव से लंबी आयु, अच्छे स्वास्थ्य और अच्छे जीवन का आशीर्वाद मांगा जाता है। इस दिन गायत्री मंत्र का जप करना भी बहुत शुभ माना जाता है। रथ सप्तमी को अचला सप्तमी के नाम से भी जाना जाता है।

तिथि और शुभ मुहूर्त

2019 में रथ सप्तमी 12 फरवरी 2019, मंगलवार को है।

सूर्य रथ सप्तमी पर स्नान मुहूर्त : प्रातः 05:21 से 07:06 बजे।

अर्घ्यदान मुहूर्त

अर्घ्यदान
मुहूर्त :
सूर्योदय
के समय : प्रातः 07:02 बजे।

सप्तमी तिथि प्रारंभ : 11 फरवरी 2019, सोमवार 15:20 बजे।

सप्तमी तिथि समाप्त : 12 फरवरी 2019, मंगलवार 15:54 बजे।

 

और भी पढ़ें :