बेलारूस की स्वर्ण विजेता का पदक छीना

लंदन| वार्ता| पुनः संशोधित मंगलवार, 14 अगस्त 2012 (01:18 IST)
FC
में गोला फेंक स्पर्धा की स्वर्ण विजेता की के का आरोपी पाए जाने पर उनसे पदक छीन लिया गया है।

लंदन ओलिंपिक की समाप्ति के ठीक एक दिन बाद बेलारूस की एथलीट को प्रतिबंधित दवाओं के सेवन का आरोपी पाया गया और इसके साथ ही एक सप्ताह पहले ओलिंपिक में स्वर्ण जीत चुकी नादाजेया का पदक उनसे छीन लिया गया।

अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति (आईओसी) ने सोमवार को जारी बयान में बताया कि एथलीट के खून एवं यूरिन के दो नमूने लिए गए थे। नादाजेया को प्रतिबंधित दवा मेटेनोलोन के सेवन का आरोपी पाया गया है।
उन्होंने कहा नादाजेया को महिला गोला फेंक स्पर्धा से बाहर किया जाता है जिसमें उन्होंने पहला स्थान हासिल किया था। बेलारूस की एथलीट को उनका स्वर्ण पदक लौटाने के आदेश दिए गए हैं।

इसके बाद अब इस स्पर्धा में दूसरे स्थान पर रही न्यूजीलैंड की वेलेरी एडम्स को स्वर्ण, रूस की एवजेनिया कोलोडको को रजत तथा चीन की गोंग लिलियाओ को कांस्य पदक दिया जाएगा।
गौरतलब है कि लंदन ओलिंपिक में 11 एथलीटों को खेलों के दौरान डोपिंग के आरोप में बाहर कर दिया गया था। इसके अलावा प्रतिबंधित दवाओं का कोई मामला सामने नहीं आया था।

कहा जा रहा था कि कुछ मामलों को छोड़ दिया जाए तो यह खेल काफी साफ सुथरी छवि वाले रहे हैं। ऐसे में खेलों की समाप्ति के ठीक एक दिन बाद यह मामला काफी निराशाजनक है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :