कविता : दशरथ नंदन राम

ramayan in ram

सौम्य सुदर्शन शामल सुंदर
नीलमणी सम रोचन उज्ज्वल
रणवीर धुरंधर वीर धनुर्धर
असुर निकंदन दशरथ नंदन
विष्णुरूप तुम, विश्वरूप तुम
जानकीवल्लभ रघुनंदन तुम
कोदंडधारी विघ्नसंहारक
पालनहार प्रभु रामचंद्र तुम

रक्ष रक्ष हे राम राम
रोग संहारो राम राम
क्लेश हरो हे राम राम
कृपा करो हे राम राम

जग उद्धारो हे राम राम
पार लगाओ राम राम
कष्ट निवारो हे राम राम
मंगल करो हे राम राम।

(वेबदुनिया पर दिए किसी भी कंटेट के प्रकाशन के लिए लेखक/वेबदुनिया की अनुमति/स्वीकृति आवश्यक है, इसके बिना रचनाओं/लेखों का उपयोग वर्जित है...)



और भी पढ़ें :