सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता, हिज्बुल मुजाहिदीन का चीफ कमांडर सैफुल्लाह ढेर, साथी को जिंदा पकड़ा

सुरेश एस डुग्गर| Last Updated: रविवार, 1 नवंबर 2020 (17:41 IST)
जम्मू। सुरक्षाबलों को कश्मीर में आज उस समय एक बहुत बड़ी सफलता उस समय मिली जब उन्होंने के चीफ कमांडर डॉ. सैफुल्लाह को मार गिराया। उस पर लाखों रुपयों का इनाम था। हालांकि मुठभेड़ स्थल से एक आतंकी को जिंदा पकड़ा गया है।
जानकारी के अनुसार, श्रीनगर के रंगरेथ इलाके में पुलिस को आतंकवादियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। इसके तुरंत बाद पुलिस और सुरक्षाबलों ने संयुक्त ऑपरेशन चलाते हुए आतंकवादियों के छिपे हुए ठिकाने को घेरने का प्रयास किया। इस दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग करना शुरू कर दी।

सुरक्षाबलों ने सबसे पहले छिपे आतंकवादियों को आत्मसमर्पण करने की चेतावनी दी। बार-बार आतंकवादियों को आत्मसमर्पण करने के लिए कहा गया, लेकिन आतंकवादियों ने इसे अनसुना कर दिया और सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी। जवाब में पुलिस और सुरक्षाबलों ने संयुक्त अभियान के दौरान आतंकवादियों के खिलाफ भी फायरिंग करना शुरू कर दी।

कुछ घंटों की मुठभेड़ के बाद सुरक्षाबलों ने हिज्बुल मुजाहिदीन के चीफ कमांडर को मार गिराया। पहले सुरक्षाबलों को इसके प्रति विश्वास नहीं हुआ था। बाद में जब उन्होंने उसकी पहचान की तो सुरक्षाधिकारी खुशी के मारे झूम उठे क्योंकि इस साल मई महीने में हिज्बुल मुजाहिदीन के चीफ कमांडर रियाज नाइकू की मौत के बाद डॉ. सैफुल्लाह सुरक्षाबलों के लिए सिरदर्द इसलिए बना हुआ था क्योंकि वह टीआरएफ के नाम से भी दहशत फैला रहा था।

अधिकारियों ने बताया कि आतंकवादी जिस ठिकाने में छिपे थे वहां के आसपास रहने वाले लोगों को सुरक्षित ठिकानों की ओर से निकाला गया था। सुरक्षाबलों की कोशिश थी कि आतंकवादियों से किसी भी कीमत पर आत्मसमर्पण करवाया जा सके। गत महीने भी आतंकवादियों से आत्मसमर्पण करवाने में कामयाब रहे थे। इसमें आतंकवादियों के परिजनों ने भी अहम भूमिका निभाई थी।
हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि जिस आतंकी को जिंदा पकड़ा गया है वह आतंकवादी स्थानीय हैं या फिर विदेशी। हालांकि पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह का कहना था कि पकड़ा गया संदिग्ध है और उससे पूछताछ जारी है।



और भी पढ़ें :