0

वजन का ज्यादा बढ़ना भी हो सकता हैं पीरियड्स में देरी का कारण

मंगलवार,अगस्त 20, 2019
0
1
मां बनना महिलाओं के जीवन का एक अद्भुत अनुभव होता है। कई बार गलत जीवनशैली महिलाओं की प्रजनन क्षमता को बुरी तरह से प्रभावित कर देती है। ऐसे में सही दिनचर्या व जीवनशैली अपनाने के
1
2
पीरियड्स देरी से आने की समस्या कई महिलाओं व युवतियों को होती है। आज हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे सामान्य कारण जो इस समस्या की वजह हो सकती है। अगर महिलाएं इन 5 कारणों की जानकारी रखें, तो अपने
2
3
वैसे तो अपने शरीर के प्राइवेट अंगों को साफ, स्वच्छ रखने से इस समस्या से बहुत हद तक बचा सकता है। लेकिन फिर भी अगर सफेद पानी जाने व ल्यूकोरिया की समस्या हो रही हो, तो इन घरेलू उपाय
3
4
कई कपल्स जब फैमिली प्लानिंग करते है तो आसानी से माता-पिता नहीं बन पाते हैं। वैसे तो इसके कई कारण हो सकते हैं जिसके लिए डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए लेकिन हम आपको बताने जा रहे हैं
4
4
5
महिलाओं के शरीर में उम्र के अलग-अलग दौर में हार्मोन में परिवर्तन होना सामान्य बात है, लेकिन कई बार उनका संतुलन बिगड़ जाता है। अगर सही समय पर इस समस्या को पहचान कर इस पर ध्यान नहीं दिया गया,
5
6
औरतों को सबसे अधिक संख्या में बहुत-सी बीमारियों का सामना करना पड़ता है,परंतु 5 ऐसी खतरनाक बीमारियां हैं, जिनका महिलाओं के स्वास्थ्य पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है।
6
7
क्या आप भी कामकाजी महिला है? यदि हां, तो आपको सतर्क हो जाना चाहिए। लगातार बदलती और भागदौड़ भरी जीवनशैली आपके स्वास्थ्य को बुरी तरह से प्रभावित करती है। गलत जीवनशैली व 'लाइफ स्टाइल' की वजह से जन्मी बीमारियों को 'लाइफ स्टाइल डिसीज'
7
8
आमतौर पर जब भी महिलाओं की सेहत संबंधी बात होती है, तब शरीर के अंग जैसे हाथ, पैर, फेफड़े, लिवर, दिल आदि की बात तो वे आसानी से दूसरों से कर लेती हैं, लेकिन उन्हीं के शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग ऐसा भी है, जिसके बारे में बात करने से वे हिचकिचाती हैं। यह ...
8
8
9
शायद ही ऐसे कोई लड़की व महिला हो जिसे कभी भी यूरीन इंफेक्शन न हुआ हो। माना जाता है कि करीब 70 फीसदी महिलाओं ने कभी न कभी अपने जीवन में इस समस्या का सामना जरूर किया है।
9
10
कई महिलाओं को योनि मार्ग से सफेद, चिपचिपा गाढ़ा स्राव होने की समस्या होती है। जिसे सामान्य भाषा में सफेद पानी जाना, श्वेत प्रदर या ल्यूकोरिया कहा जाता है।
10
11
किसी भी उम्र की लड़की या महिला के शरीर में अचानक होने वाले कुछ बदलावों को कभी भी हल्के में लेकर नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। आइए, आपको ऐसे ही शरीर के कुछ
11
12
पीरियड्स के बारे में आज भी कई लड़कियां और महिलाएं बात करने में झिझकती हैं, ऐसे में कई लड़कियां को नहीं पता होता कि इन दिनों कैसे खुद को स्वच्छ रखें।
12
13
चाहे आप हाथों से कपड़ों को धोएं या मशीन में, गृहणियों को हमेशा ये डर बना रहता है कि कहीं एक कपड़े का रंग दूसरे पर न लग जाए, साथ ही कहीं नए कपड़ों का रंग जल्द ही फीका न पड़ जाए। अगर आपको
13
14
ठंड के मौसम में पीरियड्स की तकलीफ दूसरे किसी मौसम से ज्यादा हो सकती है, क्योंकि इन दिनों सूजन, अधि‍क दर्द होना और ऐंठन की समस्या होना आम है।
14
15
पीरियड्स के दौरान सभी महिलाओं को किसी न किसी तरह के दर्द और तकलीफ का सामना करना पड़ता है। किसी को शरीर के किसी हिस्से में दर्द रहता है तो किसी को किसी अन्य हिस्से में,
15
16
आमतौर पर महिलाओं को 21 से 35 दिनों के अंदर पीरियड आते हैं, लेकिन कई बार कुछ महिलाओं को इतने ही समय में दो बार पीरियड आ जाते हैं। बार-बार पीरियड आने के कई कारण हो सकते है।
16
17
यह बाहरी संक्रमण की वजह से नहीं बल्कि शरीर की आंतरिक प्रणाली में कमी के कारण होती है। शरीर की आंतरिक प्रणाली में कमी की वजह महिलाओं की खरब और अनियमित दिनचर्या भी हो सकती है।
17
18
एंडोमेट्रिओसिस एक ऐसी बीमारी है जो महिलाओं के गर्भाशय में होती है। इस बीमारी में गर्भाशय के अंदर एक परत बनती है और बढ़ते हुए ये गर्भाशय के बाहर अंडाशय, फैलोपियन ट्यूब व अन्य प्रजनन अंगों तक फैल जाती है।
18
19
आइए बात करते हैं कि नवरात्रि के नौ दिन कौन से रंगों का प्रतिनिधित्व करते हैं... हर दिन कौन सा रंग पहन कर आराधना करें कि देवी के आशीष आप पर बरसे...
19