madhuri dixit birthday : हैप्पी बर्थ डे माधुरी

madhuri dixit

बात उन दिनों की हैं जब 80 का दशक उम्र की ढ़लान पर था और में श्रीदेवी का सितारा कामयाबी की बुलंदियां छू रहा था। पर श्रीदेवी राज कर रही थी। एक से एक सुपर हिट मूवीज और एक से बढ़कर एक जबरदस्त गाने... श्रीदेवी का जादू दर्शकों के सर चढ़ कर बोल रहा था। इसी दौरान एन. चंद्रा प्रोडक्शन के सेट पर एक तूफ़ान बड़ी तेजी से आकार ले रहा था। अपनी सारी ताकत संजोएं सही वक़्त का इंतज़ार कर रहा था।
11 नवंबर 1988 देशभर में फिल्म तेज़ाब रिलीज़ हुई और नामक तूफ़ान दनदनाता हुआ बॉलीवुड में आ धमका। सिनेमाघरों के आगे लोगों की लंबी कतारें नजर आने लगी, बॉक्स ऑफिस के आकड़े धड़ाधड़ दौड़ने लगे, गली-नुक्कड़, शादी-बारातों में बस एक ही नाम गूंजने लगा, मोहिनी, मोहिनी, मोहिनी!! माधुरी रातोरात बॉलीवुड के आस्मां पर छा गई।
हेमा मालिनी, रेखा और श्रीदेवी के बाद अब बॉलीवुड के सिंहासन पर विराजने की बारी थी माधुरी दीक्षित की! तेज़ाब के बाद माधुरी ने कभी मूड कर नही देखा। राम लखन, दिल, बेटा, साजन, हम आपके हैं कौन...फिल्म दर फिल्म उनका रंग बॉलीवुड पर गहरा होता चला गया। सशक्त अभिनय, कमाल की और दिल पर छुरियां चल जाएं ऐसी जानलेवा मुस्कान लिए अबोध की मासूम दुल्हन से लेकर के धक् धक् गर्ल तक का उनका फ़िल्मी सफर बेहद ख़ूबसूरत रहा।

मुंबई में सन 1967 में 15 मई को उनका जन्म हुआ। सुविद्य पिता, माता और भाई बहनों के भरे पूरे परिवार में माधुरी का बचपन गुजरा। यूनिवर्सिटी से उन्होंने स्नातक की शिक्षा पूरी की और नृत्य में भी महारत भी हासिल की। कड़ी मेहनत और सच्ची लगन के जोर पर वे हिंदी सिनेमा सृष्टि की एक बेहद पसंदीदा और कामयाब कलाकार बनी। दर्शकों ने उन पर भर-भर के प्यार लुटाया। नंबर वन हीरोइन के खिताब के साथ-साथ उन्हें अनेक फ़िल्म पुरस्कारों से भी नवाज़ा गया। भारत सरकार ने भी हिंदी सिनेमा में उनके योगदान के लिए पद्मश्री पुरस्कार देकर उन्हें सम्मानित किया। उनके सम्मान में चार चांद लग गए।

बॉलीवुड की एक सफल अभिनेत्री होने के साथ-साथ वे एक अच्छी नृत्यांगना और गायिका भी है। आज माधुरी अपने पति डॉ. श्रीराम नेने और उनके दो बच्चों के साथ मुंबई में रहती है। अपने करियर और घर गृहस्थी का तालमेल बनाएं रखना वे बख़ूबी जानती है। केवल सिनेमा के पर्दे पर ही नहीं बल्कि अपने निजी जीवन में भी माधुरी सुपरस्टार है।

इस 15 मई को माधुरी दीक्षित नेने अपने जीवन के 54 साल पूरे करेंगी। खरे सोने पर समय की परत नहीं जमती। हीरे की क़ीमत वक़्त के तराजू में नहीं तौली जाती। माधुरी जैसी कलाकारों की शख़्सियत उम्र के मापदंड से नहीं नापी जाती। उम्र की गिनती तो हम लोगों के लिए होती होगी, पर माधुरी के लिए तो... वो अंग्रेज़ी में कहते हैं ना की 'ऐज इज जस्ट ए नंबर'।



और भी पढ़ें :