स्मृतियों के झरोखे में मेरी माँ

आज भी गूँजते हैं माँ के पवित्र मंत्रोच्चार

स्मृतियों के झरोखे में माँ
NDND
मैं जब भी माँ के बारे में सोचता हूँ मुझे मटके में ताजा पानी भरने की आवाज सुनाई देती है। उसकी उम्र उसकी झुर्रियों से ज्यादा उन बर्तनों की खनखनाहट में थी जिसे वह सालों से माँजती चली आ रही थी। भरे-पूरे परिवार के लोगों के कपड़ों के रंग उड़ चुके रेशों में उसकी उम्र धुंधला चुकी थी। कपड़ों को लगातार रगडती-धोती वह उठती तो अपने घुटनों पर हाथ धरकर उठती । एक हलकी सी टसक के साथ।

हम भाई बहन जब सुबह सो कर उठते तब तक झकाझक धुले सबके कपड़े तार पर सूख रहे होते। पटली पर रखे बर्तन चमाचम चमक रहे होते। सिगड़ी पर दाल उकल रही है और परात में आटा गूँथा हुआ रखा है। मटके में ताजा पानी भरा हुआ है।

माँ जब भी उठती अपने घुटनों पर हाथ रखती हुई उठती। उसके घुटनों से हलकी सी आवाज निकलती और वहीं दम तोड़ देती। कई बार ऐसा होता कि आटा गूँथा हुआ रखा होता तो माँ की उँगलियों के निशान गूँथे आटे पर छूट जाते।

माँ घर में इतना मर खप गई थी कि कुल मिलाकर उसके चेहरे की झुर्रियों और अंदर धँस चुकी आँखों में हमसे लगी उम्मीदें बाकी रह गईं थीं। पिता इतने चुप रहते कि उनकी चुप्पी में उनका दुःख बजता रहता। वे अक्सर चुप रहते और कोई न कोई दुःख उनके कंधे पर बैठा रहता। किसी पालतू पक्षी की तरह। वह पक्षी अजर-अमर था। पिता को अपना दुःख दिखाई नहीं देता और माँ का दुःख उनसे देखा नहीं जाता।

हमारा घर मेनरोड पर था। मकानों की दीवारें बदरंग थीं। कहीं कहीं काली-भूरी। कच्चे मकान धूप में चमकते हुए और भी बदरंग दीखते। मेनरोड से आने-जाने वाले वाहनों से निकलता धुँआ और उड़ती हुई धूल मकानों की दीवारों पर चिपकती रहतीं।

यही नहीं, धूल और धुँआ उड़ता हुआ रसोई घर तक आ जाता । घरों में रहती तमाम चीजों पर यह धूल-धुँआ बैठ जाता। रजाई, गादी, कम्बलों और दरियों पर यह धूल-धुआँ जमता रहता। रात को बिस्तर बिछाने से पहले माँ दरी, रजाई गादी औऱ कम्बलों को खूब झटकारती। यह धूल धुआँ झरता और फिर थोड़ी देर हवा में रूककर वापस जम जाता।

NDND
माँ जब भी कचरा बुहारती मैं माँ को बहुत ध्यान से देखता। माँ मुझे देखती और धीरे से हँसने लगती। कहती इस घर में जगह जगह दुःख बिखरे पड़े हैं। मैं पूछता कहाँ हैं दुःख। तो माँ दीवारों पर धीरे धीरे हाथ फेरती। दीवारों से झरती धूल को देखती। टूटे कप-बशी के टुकड़ों, पिता के कुरते के टूटे बटनों, सुई, हमारी पेम के टुकड़ों, को देखती रहती।

रवींद्र व्यास|
मैं माँ को कचरा बुहारते अक्सर देखा करता। माँ बहुत धीरे धीरे कचरा बुहारती। लगाव और प्रेम के साथ। कभी कभी रूककर धूल या कचरे में पड़ी चीजों को ध्यान से देखती। कचरे में कभी उसे ब्लैड मिलती, कभी सुई बटन या स्टोव की पिन। कभी धागे का कोई टुकड़ा। वह उन्हें निकालती और सावधानी से किसी कोने या आलिये में रख देती।



और भी पढ़ें :