व्यंग्य यात्रा

सार्थक व्यंग्य की रचनात्मक त्रैमासिकी

WD
सार्थक व्यंग्य की रचनात्मक त्रैमासिकी
(हिंदी व्यंग्य का समकालीन परिदृश्‍य-तीन)

संपादक
प्रेम जनमेजय

कार्यालय
73, साक्षर अपार्टमेंट्‍स, ए-3 पश्चिम विहार
नई दिल्ली- 110063
फोन : 25264227, 9811154440
फैक्स : 25275084
ई-मेल : [email protected]
अनुक्रम
आरंभ - आप चंदन घिसें

पाथेय
महीप सिंह- ...हम आ गए हैं

स्वयं प्रकाश - आप धर्म से नहीं लड़ सकते
प्रेज- परसाई की खोज
शेरजंग गर्ग- हिन्दी के दुग्ध-मुग्ध मजनूँ
द्रोणवीर कोहली- दीर्घायु
हरि जोशी- शरद जोशी, लक्ष्मीकांत वैष्णव और मैं
आशा रावत - मेरे आदरणीय गुरु
गफूर तायर- सब कुछ गलत के विरुद्ध कलमबद्ध लेखक

चिंतन
विजयेन्द्र स्नातक- सामाजिक चेतना में हास्य-व्यंग्य...
सत्यकेतु सांकृत- समकालीन व्यंग्य की तस्वीर
विनोद साव- पापुलर राइटिंग और जनवादी लेखन...
प्रभु जोशी - सांस्कृतिक धूर्तता का वैज्ञानिक मुखौटा
चिंता - रचनाकार को स्वयं को सीमित नहीं करना चाहिए- गोपाल चतुर्वेदी बातचीत

त्रिकोणीय
परिचय- गोपाल चतुर्वेदी
प्रेम जनमेजय- गोपाल चतुर्वेदी के प्रहार
गोपाल चतुर्वेदी- व्यंग्यकार और साहित्यकार
कन्हैयालाल नंदन- गोपाल चतुर्वेदी की शान में एक गुस्ताखी
शेरजंग गर्ग- रंग-बिरंगी फुलझडि़याँ
हरीश नवल- राम झरोखे बैठा गोपाल

व्यंग्य रचनाएँ
यशवंत व्यास- हरे साँप की कविता
यशवंत व्यास - डंकल हॉरर शो
अशोक चक्रधर- सारा डेटा पा जाएगा बेटा
मुश्ताक यूसुफी - हुए मर के रुसवा
मीरा सीकरी- पैंतरे
कुंदनसिंह परिहार- गलती मेरी और भोगना भोगीलाल का
राजेन्द्र त्यागी- कृशन चंदर का गधा
आलोक पुराणिक - शेर और बकरी
यश गोयल- खेल को खेल की भावना से देखो
सुभाष चन्दर- थाने में एक बयान
मनोज श्रीवास्तव- फिरंगी आत्माओं का चक्कर
प्रकाश पुरोहित- (सफेद) बाल की खाल
सी. भास्कर राव- संजय-संवाद
श्रीगोविंद शर्मा- नववर्ष मंगलमय हो
हरिसिंह पाल- लोकार्पण का तर्पण
स्नेहलता पाठक- प्रोफेसर का विरह ‍वर्णन
काशीपुरी कुंदन- एक चार्जशीट का उत्तर
श्रीकांत आप्टे- कानून : आखिरी रील, आखिरी सीन
वीरेन्द्र सक्सेना- अंतर्व्यू एक कालीजियन का
विनोद शाही- यह अकादमिक दुनिया
अतुल चतुर्वेदी- चलो, प्रवेशोत्सव मनाएँ!
अ‍रविंद तिवारी- प्रयोगशाला में व्यंग्य
शिवशंकर मिश्र- मेरा धन है स्वाधीन कलम
राजेन्द्र जोशी- सरकारें चल रही हैं...
अरुण सेदवाल- दाग-‍‍चिंतन
नरेन्द्र आहुजा 'विवेक' - बनना हास्य कवि का
डॉ. अखिलेश बार्चे - छाया है नशाऽ .. .क्रिकेट का
प्रमोद ताम्बट- कबाडि़यों का उज्ज्वल भविष्य
देवेन्द्र कुमार मिश्र - आम आदमी की जिंदगी

पद्य
दिविक रमेश
राजकुमार सैनी
रामबहादुर चौधरी चंदन, अश्वघोष, अजय कुमार सिंह
मंजु गुप्ता
अनिरुद्ध सिन्हा, प्रेमचंद स्वर्णकार, प्रहलाद श्रीमाली

पुस्तक परिचय
समाचार



और भी पढ़ें :