1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. मध्यप्रदेश
  4. Congress Hindutva card on Hanuman Chalisa
Written By Author विकास सिंह
Last Updated : गुरुवार, 28 अप्रैल 2022 (16:04 IST)

हनुमान चालीसा पर कांग्रेस का हिंदुत्व कार्ड, जीतू पटवारी बोले लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा पढ़ने पर नहीं हो रोक

भोपाल। मध्यप्रदेश में हनुमान चालीसा अब सियासत के केंद्र में आ गई है। हनुमान भक्त कमलनाथ के नेतृत्व वाली मध्यप्रदेश कांग्रेस अब खुलकर लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा करने के पक्ष में आ गई है। इंदौर में लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा करने के पाठ का मध्यप्रदेश कांग्रेस ने खुलकर समर्थन किया है। कांग्रेस मीडिया सेल के चैयरमेन और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने साफ कहा कि हनुमान चालीसा लाउडस्पीकर पर पढ़ने पर कोई रोक टोक नहीं होनी चाहिए। 
मध्यप्रदेश में कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कहा कि हनुमान चालीसा का पाठ करना आस्था का विषय है और खुद वह रोज हनुमान चालीसा का पाठ करते है। शनिवार और मंगलवार को बड़ी संख्या में लाखों लोग हनुमान चालीसा का पाठ करते है और लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा का पाठ पढ़ने में कोई बुराई नहीं है। पूर्व मंत्री ने यह भी दावा किया कि वह खुद हर साल हनुमान चालीसा का पाठ लाउडस्पीकर पर करवाते है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों हनुमान जयंती पर मध्यप्रदेश कांग्रेस ने पूरे प्रदेश में हनुमान जयंती के कार्यक्रमों का बड़े पैमाने पर आयोजन किया था। मुख्य कार्यक्रम प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के गृह जिले छिंदवाड़ा में हुआ था यहां 101 फुट के हनुमान जी की मूर्ति पर लेजर शो का आयोजन के साथ हनुमान चालीसा का पाठ हुआ था। हनुमान जंयती पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने सोशल मीडिया पर अपनी डीपी पर बदली थी।

राजनीति विश्लेषक कहते हैं कि मध्यप्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने है और कांग्रेस जिसने 2018 का विधानसभा चुनाव सॉफ्ट हिंदुत्व के बलबूते पर लड़ा था वह अब चुनाव से ठीक पहले ऐसे किसी विवाद में नहीं फंसना चाहती जिससे कि पार्टी से बहुसंख्यक वोटर नाराज हो। 

वहीं दिलचस्पत बात यह है कि इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विज सिंह के भाई और कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने लाउडस्पीकर पर बैन लगाने की बात कही थी। उन्होंने ट्वीट कर लिखा था कि लाउड स्पीकर पर प्रतिबंध लगाना अच्छा निर्णय होगा। दंगे भी नहीं होंगे, जनता को राहत मिलेगी।न तो राम बहरे हैं और न ही अल्लाह। जो शक्तियां दुनिया को पालती हैं, उन्हें कुछ "मूर्ख"क्या सुनाएंगे और सिखाएंगे?